"असमिया भाषा" के अवतरणों में अंतर

8 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
गियर्सन के वर्गीकरण की दृष्टि से यह बाहरी उपशाखा के पूर्वी समुदाय की भाषा है, पर [[सुनीतिकुमार चटर्जी]] के वर्गीकरण में प्राच्य समुदाय में इसका स्थान है। [[उड़िया]] तथा [[बंगला]] की भांति असमी की भी उत्पत्ति प्राकृत तथा अपभ्रंश से भी हुई है।
 
यद्यपि असमिया भाषा की उत्पत्ति सत्रहवीं शताब्दी से मानी जाती है किंतु साहित्यिक अभिरुचियों का प्रदर्शन तेरहवीं शताब्दी में [[रुद्र कांडालीकंदलि]] के [[द्रोण पर्व]] ([[महाभारत]]) तथा [[माधव कांडालीकंदलि]] के [[रामायण]] से प्रारंभ हुआ। वैष्णवी आंदोलन ने प्रांतीय साहित्य को बल दिया। [[शंकर देव]] (१४४९-१५६८) ने अपनी लंबी जीवन-यात्रा में इस आंदोलन को स्वरचित काव्य, नाट्य व गीतों से जीवित रखा।
 
सीमा की दृष्टि से असमिया क्षेत्र के पश्चिम में [[बंगला]] है। अन्य दिशाओं में कई विभिन्न परिवारों की भाषाएँ बोली जाती हैं। इनमें से [[तिब्बती]], [[बर्मी]] तथा [[खासी]] प्रमुख हैं। इन सीमावर्ती भाषाओं का गहरा प्रभाव असमिया की मूल प्रकृति में देखा जा सकता है। अपने प्रदेश में भी असमिया एकमात्र बोली नहीं हैं। यह प्रमुखत: मैदानों की भाषा है।
 
== असमीया एवं बंगला ==