"परिक्षेपण": अवतरणों में अंतर

134 बाइट्स जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
→‎top: सुधार/ सफाई/ टैगिंग, added uncategorised, deadend tags AWB के साथ
(नया पृष्ठ: जब सूर्य का प्रकाश प्रिज़्म से होकर गुजरता है, तो वह अपवर्तन क...)
टैग: large unwikified new article
 
(→‎top: सुधार/ सफाई/ टैगिंग, added uncategorised, deadend tags AWB के साथ)
{{स्रोतहीन|date= अगस्त 2016}}
 
{{Dead end|date=अगस्त 2016}}
 
जब सूर्य का प्रकाश प्रिज़्म से होकर गुजरता है, तो वह अपवर्तन के पश्चात् प्रिज़्म के आधार की ओर झुकने के साथ-साथ विभिन्न रंगों के प्रकाश में बँट जाता है। इस प्रकार से प्राप्त रंगों के समूह को वर्णक्रम कहते हैं तथा श्वेत प्रकाश का अपने अवयवी रंगों में विभक्त होने की क्रिया को वर्ण विक्षेपण कहते हैं।
सूर्य के प्रकाश से प्राप्त रंगों में बैंगनी रंग का विक्षेपण सबसे अधिक एवं लाल रंग का विक्षेपण सबसे कम होता है।
न्यूटन ने 1666 ई. में पाया कि भिन्न-भिन्न रंग भिन्न-भिन्न कोणों से विक्षेपित होते हैं।
वर्ण-विक्षेपण किसी पारदर्शी पदार्थ में भिन्न-भिन्न रंगों के प्रकाश के भिन्न-भिन्न वेग होने के कारण होता है। अतः किसी पदार्थ का अपवर्तनांक भिन्न-भिन्न होता हैं।
 
 
पन्ने की प्रगति अवस्था
 
अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ अं क ख ग घ ङ च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ द ध न प फ ब भ म य र ल व श ष स ह क्ष त्र ज्ञ ऋ ॠ ऑ श्र अः
 
{{Uncategorized|date=अगस्त 2016}}
12,636

सम्पादन