"हंगपन दादा" के अवतरणों में अंतर

69 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
छो
हवलदार '''हंगपन दादा''' [[भारतीय सेना]] के एक जवान थे जो 23 मई 2016 को उत्तरी कश्मीर के शमसाबाड़ी में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए। वीरगति प्राप्त करने से पूर्व उन्होंने 4 हथियारबंद आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा। इस शौर्य के लिए 15 अगस्त 2016 को उन्हें मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। अशोक चक्र शांतिकाल में दिया जाने वाला भारत का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है।
 
[[श्रेणी:अशोक चक्र विजेता]]