"रामभद्राचार्य" के अवतरणों में अंतर

20 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
 
; संयुक्त राष्ट्र को सम्बोधन
अगस्त २८ से ३१, २००० ई के बीच [[न्यूयॉर्क शहर|न्यू यॉर्क]] में [[संयुक्त राष्ट्र]] द्वारा आयोजित सहस्राब्दी विश्व शान्ति शिखर सम्मलेन में भारत के आध्यात्मिक और धार्मिक गुरुओं में जगद्गुरु रामभद्राचार्य सम्मिलित थे। संयुक्त राष्ट्र को उद्बोधित करते हुए अपने में उन्होंने भारत और हिन्दू शब्दों की संस्कृत व्याख्या और ईश्वर के सगुण और निर्गुण स्वरूपों का उल्लेख करते हुए शान्ति पर वक्तव्य दिया। इस वक्तव्य द्वारा उन्होंने विश्व के सभी विकसित और विकासशील देशों से एकजुट होकर दरिद्रता उन्मूलन, आतंकवाद दलन और निःशस्त्रीकरण के लिए प्रयासरत होने का आह्वान किया। वक्तव्य के अन्त में उन्होंने शान्ति मन्त्र का पाठ किया।<ref>{{cite web | language=अंग्रेज़ी | last=संवाददाता | first=कार्यालय | publisher=दि हिन्दू | title = 100 from India for World Peace Summit | url = http://www.hindu.com/2000/05/26/stories/14262185.htm | date = मई २६, २००० | accessdate=जून २४, २०११}}</ref><ref>{{cite web | publisher=विश्व धर्म संसद | title = Delegates | url = http://www.millenniumpeacesummit.com/news000905.html | language=अंग्रेज़ी | accessdate=जून २४, २०११}}</ref><ref>{{cite web | last=रामभद्राचार्य | first=स्वामी | title=संस्कार: शान्ति का मार्ग | date = दिसम्बर १७, २००० | url = http://www.panchjanya.com/17-12-2000/9sans.html | publisher=पाञ्चजन्य | accessdate=जून २४, २०११}}</ref>
 
=== अयोध्या मसले में साक्ष्य ===