"अहल अल-हदीस" के अवतरणों में अंतर

420 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
पाठ ठीक किया
छो (HotCat द्वारा श्रेणी:इस्लामी आंदोलन जोड़ी)
(पाठ ठीक किया)
दूसरे समूह अहले हदीस या अस्हाबे हदीस का केंद्र हिजाज़ था। यह लोग सिर्फ क़ुरआन और हदीस के ज़ाहिर (प्रत्यक्ष) पर भरोसा करते थे और पूरी तरह से अक़्ल का इंकार करते थे। इस गुरूप के बड़े उलमा (विद्धवान), मालिक इब्ने अनस (देहान्त 179 हिजरी), अहमद इब्ने हम्बल हैं।
 
अहले हदीस पंथ के मानने वाले तक़लीद नहीं कही करते, वो मानते हैं कि क़ुरान और सुन्नत से ही सारे मसले और धर्म के कानून को समझा जा सकता हैं और इसके लिए किसी एक इमाम की तक़लीद की ज़रूरत नहीं है।
== संबंधित लेख ==
 
== संबंधित लेख ==
[[श्रेणी:इस्लामी आंदोलन]]
29,324

सम्पादन