"सौर प्रज्वाल": अवतरणों में अंतर

4 बाइट्स जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
[[File:Solar Blast.ogg|thumb|260px|जून २०११ में देखा गया एक सौर प्रज्वाल]]
'''सौर प्रज्वाल''' (solar flare) [[सूरज]] की सतह के किसी स्थान पर अचानक बढ़ने वाली [[चमक]] को कहते हैं। यह प्रकाश [[वर्णक्रम]] के बहुत बड़े भाग के [[तरंगदैर्घ्यों]] (वेवलेन्थ) पर उत्पन्न होता है। सौर प्रज्वाल में कभी-कभी कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण (coronal mass ejection) भी होता है जिसमें सूरज के [[कोरोना]] से [[प्लाज़्मा]] और चुम्बकीय क्षेत्र बाहर फेंक दिये जाते हैं। यह सामग्री तेज़ी से सौर मंडल में फैलती है और इसके बादल बाहर फेंके जाने के एक या दो दिन बाद [[पृथ्वी]] तक पहुँच जाते हैं। इनसे [[अंतरिक्ष यानों]] पर दुष्प्रभाव के साथ-साथ पृथ्वी के [[आयनमंडल]] पर भी प्रभाव पड़ सकता है, जिस से [[दूरसंचार]] प्रभावित होने की सम्भावना बनी रहती है।<ref>Menzel, Whipple, and de Vaucouleurs, "Survey of the Universe", 1970</ref>
 
== ऊर्जा माप ==