"बलभद्र" के अवतरणों में अंतर

315 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
में [[जैन धर्म]], में '''बलभद्र''' केउन बीच में हैं साठ तीनतिरसठ [[शलाकापुरुष]] कहामें जातासे होते है कि अनुग्रह करने के लिएजो हर आधे समय का चक्र हैकर्म भूमि के अनुसार [[ब्रह्माण्ड (जैन धर्म)|जैन ब्रह्माण्ड विज्ञान]], साठदुषमा-तीनसुषमा शानदारकाल प्राणीमें कहाजन्म जातालेते है,हैं। शलाकापुरुष,इन पैदातिरसठ करशलाकापुरुषों रहे हैं इस धरती पर हर ''Dukhama-sukhamā'' ''ara''. वेमें समावेशसे चौबीस तीर्थंकर, बारह चक्रवर्ती, नौ बलभद्र, नौ नारायण, और नौ ''pratinarayana''.प्रतिनारायण<span class="mw-ref" id="cite_ref-FOOTNOTEJoseph1997178_1-0" rel="dc:references">[[#cite_note-FOOTNOTEJoseph1997178-1|<span class="mw-reflink-text"><nowiki>[1]</nowiki></span>]]</span><span class="mw-ref" id="cite_ref-FOOTNOTEJoseph1997178_1-0" rel="dc:references"></span> उनके जीवन की कहानियों कर रहे हैं कहा जा करने के लिए सबसे प्रेरणादायक है । <ref><cite class="citation" id="CITEREFJain2015">जैन, विजय K. (2015), [https://books.google.com/books?id=xI8HBgAAQBAJ ''आचार्य Samantabhadra के Svayambhustotra: आराधना के चौबीस तीर्थंकर''], विकल्प प्रिंटर, पी.&#x20;199, [[आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰|ISBN]]&#x20;9788190363976, <q>गैर कॉपीराइट</q></cite><cite class="citation" id="CITEREFJain2015"></cite><span class="Z3988" title="ctx_ver=Z39.88-2004&rfr_id=info%3Asid%2Fen.wikipedia.org%3ABalabhadra&rft.aufirst=Vijay+K.&rft.aulast=Jain&rft.btitle=Acarya+Samantabhadra%27s+Svayambhustotra%3A+Adoration+of+The+Twenty-four+Tirthankara&rft.date=2015&rft.genre=book&rft_id=https%3A%2F%2Fbooks.google.com%2Fbooks%3Fid%3DxI8HBgAAQBAJ&rft.isbn=9788190363976&rft.pages=199&rft.pub=Vikalp+Printers&rft_val_fmt=info%3Aofi%2Ffmt%3Akev%3Amtx%3Abook">&#x20;</span></ref> के अनुसार जैन ''पुराणों'', ''Balabhadras'' नेतृत्व एक आदर्श जैन जीवन है । <ref><cite class="citation book">जैन, जगदीश चन्द्र; भट्टाचार्य, नरेन्द्र नाथ (1994-01-01). </cite></ref>
 
== सूची ==