"लोकविभाग": अवतरणों में अंतर

153 बाइट्स जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
{{आधार}}
'''लोकविभाग''' [[विश्वरचना]] सम्बंधी एक [[जैन धर्म|जैन ग्रंथ]] है। इसकी रचना [[सर्वनन्दि]] नामक [[दिगम्बर जैन]] मुनि ने मूलतः [[प्राकृत]] में की थी जो अब अप्राप्य है। किन्तु बाद में [[सिंहसूरि]] ने इसका [[संस्कृत]] रूपान्तर किया जो उपलब्ध है। इस ग्रंथ में [[शून्य]] और [[दशमलव पद्धति|दाशमिक]] [[स्थानीय मान]] पद्धति का उल्लेख है जो विश्व में सर्वप्रथम इसी ग्रंथ में मिलता है।
 
इस ग्रन्थ में उल्लेख है कि इसकी रचना ३८० शकाब्द में हुई थी (४५८ ई)।
 
==शून्य तथा दशमलव पद्धति==
 
==बाहरी कड़ियाँ==
* [[शून्य]]
* [[दशमलव पद्धति]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==