"अधिगम" के अवतरणों में अंतर

90 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो
{{स्रोतहीन|date=सितंबर 2014}}{{स्रोत कम}}
'''सीखना''' या '''अधिगम''' ([[जर्मन]]: Lernen, {{lang-en|learning}}) एक व्यापक सतत् एवं जीवन पर्यन्त चलनेवाली प्रक्रिया है। मनुष्य जन्म के उपरांत ही सीखना प्रारंभ कर देता है और जीवन भर कुछ न कुछ सीखता रहता है। धीरे-धीरे वह अपने को वातावरण से समायोजित करने का प्रयत्न करता है। इस समायोजन के दौरान वह अपने अनुभवों से अधिक लाभ उठाने का प्रयास करता है। इस प्रक्रिया को [[मनोविज्ञान]] में सीखना कहते हैं। जिस व्यक्ति में सीखने की जितनी अधिक शक्ति होती है, उतना ही उसके जीवन का विकास होता है। सीखने की प्रक्रिया में व्यक्ति अनेक क्रियाऐं एवं उपक्रियाऐं करता है। अतः सीखना किसी स्थिति के प्रति सक्रिय प्रतिक्रिया है।<ref>{{cite web|title=मनोविज्ञान में प्रयोग एवं परियोजना |url=http://books.google.co.in/books?id=yGxD8DM5ClMC&pg=PA22|page=22|author=अरुण कुमार सिंह|publisher=मोतीलाल बनारसीदास पब्लिशर्स|year=2008|isbn=8120833228}}</ref><ref>{{cite web|title=उच्चतर शिक्षा मनोविज्ञान |url=http://books.google.co.in/books?id=RzBL2WXTEkYC&pg=PA304 |page=३०४|author=डॉ॰ मुहम्मद सुलैमान |publisher=|year=2007|isbn=8120824180}}</ref><ref>{{cite web|title=शिक्षा मनोविज्ञान |url=http://books.google.co.in/books?id=39zFbRGy9QgC |page=२०९|author=एस॰के॰ मंगल |publisher=पीएचआई लर्निंग प्राइवेट लिमिटेड|year=२०१०|isbn=9788120332805}}</ref>
 
 
== अधिगम की परिभाषायें==
 
# '''बुडवर्थ''' के अनुसार - ‘‘सीखना विकास की प्रक्रिया है।’’<ref name="shiksha">{{cite web|title=शिक्षा मनोविज्ञान |url=http://books.google.co.in/books?id=39zFbRGy9QgC |page=२१०|author=एस॰के॰ मंगल |publisher=पीएचआई लर्निंग प्राइवेट लिमिटेड|year=२०१०|isbn=9788120332805}}</ref>
# '''स्किनर''' के अनुसार - ‘‘सीखना व्यवहार में उत्तरोत्तर सामंजस्य की प्रक्रिया है।’’<ref name="shiksha" />
 
*(क) '''मुख्य नियम''' (Primary Laws)
 
::*1. तत्परता का नियम
::*2. अभ्यास का नियम
 
*(ब) '''गौण नियम''' (Secondary Laws)
 
::*1. बहु-अनुक्रिया का नियम
 
=== गौण नियम ===
 
'''1. बहु अनुक्रिया नियम''' - इस नियम के अनुसार व्यक्ति के सामने किसी नई समस्या के आने पर उसे सुलझाने के लिए वह विभिन्न प्रतिक्रियायेंकप्रतिक्रियाओं के हल ढूढने का प्रयत्न करता है। वह प्रतिक्रियायेप्रतिक्रियायें ंतबतब तक करता रहता है जब तक समस्या का सही हल न खोज ले और उसकी समस्यासुलझ नहीं जाती। इससे उसे संतोष मिलता है थार्नडाइक का प्रयत्न एवं भूल द्वारा सीखने का सिद्धान्त इसी नियम पर आधारित है।
 
'''2. मानसिक स्थिति या मनोवृत्ति का नियम''' - इस नियम के अनुसार जब व्यक्ति सीखने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहता है तो वह शीघ्र ही सीख लेता है। इसके विपरीत यदि व्यक्ति मानसिक रूप से किसी कार्य को सीखने के लिए तैयार नहीं रहता तो उस कार्य को वह सीख नहीं सकेगा।