"तिथियाँ" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{स्रोतहीन|date=फ़रवरी 2013}}
[[हिन्दू काल गणना]] के अनुसार मास में ३० तिथियाँ होतीं हैं, जो दो पक्षों में बंटीं होती हैं। चन्द्र मास एक अमावस्या के अन्त से शुरु होकर दूसरे अमावस्याअमा वस्या के अन्त तक रहता है। अमावस्या के दिन सूर्य और चन्द्र का भौगांश बराबर होता है। इन दोनों ग्रहों के भोंगाश में अन्तर का बढना ही तिथि को जन्म देता है। तिथि की गणना निम्न प्रकार से की जाती है।
 
तिथि = चन्द्र का भोगांश - सूर्य का भोगांश / (Divide) 12.
 
वस्तुतः सायंकालीन अर्घ्य में हम सूर्य के तेजपुंज (सविता) की आराधना करते हैं, जिन्हें 'छठमाई' के नाम से संबोधित करके उन्हें प्रातःकालीन अर्घ्य ग्रहण करने के लिए निमंत्रित किया जाता है, जिसे ग्रामीण अंचलों में 'न्योतन' कहा जाता है, पुनः प्रातःकालीन सूर्य को 'दीनानाथ' से संबोधित किया जाता है।
 
== सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
बेनामी उपयोगकर्ता