"यासिर अराफ़ात (फिलिस्तीनी नेता)" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
अराफात के नेतृत्व में उनके संगठन ने शांति की जगह संघर्ष को बढ़ावा दिया और इजरायल हमेशा उनके निशाने पर रहा। लोगों को बंधक बनाना, विमानों के अपहरण समेत दुनियाभर में इजरायल के ठिकानों पर निशाना साधना संगठन का मकसद बन गया था। वो इजरायल के अस्तित्व के सख्त खिलाफ थे, लेकिन शांति से दूर संघर्ष की पहल करने वाले अराफात की छवि 1988 में अचानक बदली हुई दिखी। वो [[संयुक्त राष्ट्र]] में शांति के दूत के रूप में नजर आए। बाद में उन्हें शांति के [[नोबेल पुरस्कार]] से भी सम्मानित किया गया।<ref name= navbharat />
नेहरू-गांधी परिवार के साथ इनकी बहुत करीबियां थीं। [[इंदिरा गांधी]] को वो अपनी बड़ी बहन मानते थे। इन्होंने भारत में 1991 के चुनाव अभियान के दौरान [[राजीव गांधी]] को जानलेवा हमले को लेकर आगाह किया था।<ref name =navbharat />
 
==मृत्यु==
इनक मृत्यु की खबर 11 नवंबर, 2004 को आई। बताया गया कि बीमारी की वजह से उनकी मौत हुई। कुछ समय बाद ही उनकी मौत को लेकर [[इजरायल]] पर जहर देने के आरोप लगे। इसके बाद ये सवाल खड़ा हो गया कि उनकी मौत प्राकृतिक थी या जहर के चलते हुई थी।
12,595

सम्पादन