"राष्ट्रवाद" के अवतरणों में अंतर

1,139 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
added to lead
(भूमिका बढ़ाई)
(added to lead)
'''राष्ट्रवाद''' एक जटिल, बहुआयामी अवधारणा है, जिसमें अपने [[राष्ट्र]] से एक साझी [[साम्प्रदायिक]] पहचान समावेशित है। यह एक [[राजनीतिक विचारधारा]] के रूप में अभिव्यक्त होता है, जो किसी समूह के लिए ऐतिहासिक महत्व वाले किसी क्षेत्र पर साम्प्रदायिक [[स्वायत्तता]], और कभी-कभी [[सम्प्रभुता]] हासिल करने और बनाए रखने की ओर उन्मुख हैं। इसके अतिरिक्त, यह
साझी विशेषताओं, जिनमें आम तौर पर संस्कृति, भाषा, धर्म, राजनीतिक लक्ष्य और/अथवा आम पितरावली में एक आस्था सम्मिलित हैं, पर आधारित एक आम साम्प्रदायिक पहचान के विकास और रखरखाव की ओर, और उन्मुख हैं।<ref name = Triandafyllidou>{{cite journal | last1 = Triandafyllidou | first1 = Anna | year = 1998 | title = National identity and the other | journal = Ethnic and Racial Studies | volume = 21 | issue = 4 | pages = 593–612.}}</ref><ref name = Smith>{{cite book | last1 = Smith | first1 = A.D. | year = 1981 | title = The Ethnic Revival in the Modern World | publisher = Cambridge University Press}}</ref> एक व्यक्ति की राष्ट्र के भीतर सदस्यता, और सम्बन्धित राष्ट्रवाद का उसका समर्थन, उसके सहगामी [[राष्ट्रीय पहचान]] द्वारा चित्रित होता हैं।
 
From a political or sociological perspective, there are approximately three main [[paradigms]] for understanding the origins and basis of nationalism. The first, known alternatively as [[Primordialism|Primordialism or Perennialism]], is a perspective that describes nationalism as a natural phenomenon. This view holds that although the formal articulation of the concept nationhood may be recent, nations have always existed. The second paradigm is that of [[Ethnosymbolism]], which is a complex perspective seeking to explain nationalism by contextualizing it throughout history as a dynamic, evolutionary phenomenon and by further examining the strength of nationalism as a result of the collective nation's subjective ties to national symbols imbued with historical meaning. The third, and most dominant, paradigm is [[Modernism]], which describes nationalism as a recent phenomenon that requires the structural conditions of modern society in order to exist.<ref name="Anthony Smith">{{cite book|last1=Smith|first1=Anthony|year=2012|title=Nationalism|edition=2nd|publisher=polity|location=Cambridge|isbn=978-0-7456-5128-6}}</ref>
 
राष्ट्रवाद एक विश्वास, पन्थ या राजनीतिक विचारधारा है जिसके द्वारा व्यक्ति अपने गृह राष्ट्र के साथ अपनी पहचान बनाता या लगाव व्यक्त करता है। यह एक ऐसी अवधारणा है जिसमें [[राष्ट्र]] को सबसे अधिक प्राथमिकता दी जाती है।
3,369

सम्पादन