"राष्ट्रवाद" के अवतरणों में अंतर

525 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
अनुवादन
(अनुवादन)
(अनुवादन)
किसी राजनीतिक या समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से, राष्ट्रवाद के उद्गमों और आधारों को समझने के लिए लगभग तीन मुख्य [[रूपावलियाँ]] हैं। पहली, जो वैकल्पिक रूप से [[आदिमवाद|आदिमवाद या स्थायित्ववाद]] जानी जाती हैं, एक दृष्टिकोण है जो राष्ट्रवाद को एक प्राकृतिक दृग्विषय के रूप में वर्णित करता है। इस मत की यह धारणा है कि यद्यपि राष्ट्रत्व अवधारणा का औपचारिक ग्रंथन आधुनिक हो, पर राष्ट्र हमेशा से अस्तित्व में रहें हैं। दूसरी रूपावली [[संजातिप्रतीकवाद]] की है जो एक जटिल दृष्टिकोण हैं जो, राष्ट्रवाद को पूरे इतिहास में एक गत्यात्मक, उत्क्रन्तिकारी दृग्विषय के रूप में प्रसंगीकृत करके, और एक सामूहिक राष्ट्र के, ऐतिहासिक अर्थ से ओतप्रोत राष्ट्रीय प्रतीकों से, व्यक्तिपरक सम्बन्धों के एक परिणाम के रूप में राष्ट्रवाद की ताक़त का आगे परिक्षण करके, राष्ट्रवाद को समझाने का प्रयास करता हैं। तीसरी, और सबसे हावी रूपावली हैं [[आधुनिकतावाद]], जो राष्ट्रवाद को एक हाल के दृग्विषय के रूप में वर्णित करती हैं, जिसे अस्तित्व के लिए आधुनिक समाज की संरचनात्मक परिस्थितियों की आवश्यकता होती हैं।<ref name="Anthony Smith">{{cite book|last1=Smith|first1=Anthony|year=2012|title=Nationalism|edition=2nd|publisher=polity|location=Cambridge|isbn=978-0-7456-5128-6}}</ref>
 
क्या गठित करता हैं एक राष्ट्र को, इसके लिए कई परिभाषाएँ हैं, हालाँकि, जो राष्ट्रवाद की अनेक विभिन्न किस्मों की ओर ले जाती हैं। यह वह आस्था हो सकती हैं कि एक राज्य में नागरिकता किसी एक संजातीय, सांस्कृतिक, धार्मिक या पहचान समूह तक सीमित होनी चाहिएँ, या वह हो सकती हैं कि किसी अकेले राज्य में बहुराष्ट्रीयता में आवश्यक रूप से अल्पसंख्यकों द्वारा भी राष्ट्रीय पहचान को अभिव्यक्त करने और प्रयोग करने का अधिकार सम्मिलित होना चाहिएँ।{{sfn|Kymlicka|1995|p=16}}
It can be a belief that citizenship in a state should be limited to one ethnic, cultural, religious, or identity group, or that multinationality in a single state should necessarily comprise the right to express and exercise national identity even by minorities.{{sfn|Kymlicka|1995|p=16}}
The adoption of national identity in terms of historical development has commonly been the result of a response by influential groups unsatisfied with traditional identities due to inconsistency between their defined social order and the experience of that social order by its members, resulting in a situation of [[anomie]] that nationalists seek to resolve.{{sfn|Motyl|2001|p=262}} This anomie results in a society or societies reinterpreting identity, retaining elements that are deemed acceptable and removing elements deemed unacceptable, in order to create a unified [[community]].{{sfn|Motyl|2001|p=262}} This development may be the result of internal structural issues or the result of resentment by an existing group or groups towards other communities, especially foreign powers that are or are deemed to be controlling them.{{sfn|Motyl|2001|p=262}}
 
3,369

सम्पादन