"करुण रस" के अवतरणों में अंतर

173 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
{{कॉपी पेस्ट}} जोड़े, {{श्रेणीहीन}} जोड़े और {{[[साँचा:स्रोतहीन|स...
(nice)
 
({{कॉपी पेस्ट}} जोड़े, {{श्रेणीहीन}} जोड़े और {{[[साँचा:स्रोतहीन|स...)
{{कॉपी पेस्ट|date=जनवरी 2017}}
{{स्रोतहीन|date=जनवरी 2017}}
भरतमुनि के ‘नाट्यशास्त्र’ में प्रतिपादित आठ नाट्यरसों में शृंगार और हास्य के अनन्तर तथा रौद्र से पूर्व करुण रस की गणना की गई है। ‘रौद्रात्तु करुणो रस:’ कहकर 'करुण रस' की उत्पत्ति 'रौद्र रस' से मानी गई है और उसका वर्ण कपोत के सदृश है [1] तथा देवता यमराज बताये गये हैं [2] भरत ने ही करुण रस का विशेष विवरण देते हुए उसके स्थायी भाव का नाम ‘शोक’ दिया है[3] और उसकी उत्पत्ति शापजन्य क्लेश विनिपात, इष्टजन-विप्रयोग, विभव नाश, वध, बन्धन, विद्रव अर्थात पलायन, अपघात, व्यसन अर्थात आपत्ति आदि विभावों के संयोग से स्वीकार की है। साथ ही करुण रस के अभिनय में अश्रुपातन, परिदेवन अर्थात् विलाप, मुखशोषण, वैवर्ण्य, त्रस्तागात्रता, नि:श्वास, स्मृतिविलोप आदि अनुभावों के प्रयोग का निर्देश भी कहा गया है। फिर निर्वेद, ग्लानि, चिन्ता, औत्सुक्य, आवेग, मोह, श्रम, भय, विषाद, दैन्य, व्याधि, जड़ता, उन्माद, अपस्मार, त्रास, आलस्य, मरण, स्तम्भ, वेपथु, वेवर्ण्य, अश्रु, स्वरभेद आदि की व्यभिचारी या संचारी भाव के रूप में परिगणित किया है
 
* भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने ‘हरिश्चन्द्र’ नाटक में इसकी सफल अवतारणा की है। भारतेन्दु ने तथा इस युग के कई कवि और लेखकों ने देश-दुर्दशा पर भी करुण रस की कविता की है।
* आधुनिक महाकाव्यों तथा प्रबन्धकाव्यों में यत्र-तत्र इसका वर्णन मिलता है। छायावादी कवियों में महादेवी वर्मा के काव्य में करुणा का विशेष उल्लेख किया जाता है, पर यह भावाभिव्यक्ति वियोग शृंगार के अन्तर्गत आती है।[36]
 
{{श्रेणीहीन|date=जनवरी 2017}}
3,369

सम्पादन