"सितार" के अवतरणों में अंतर

29 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
छो
Reverted 1 edit by 2405:204:A185:E16:0:0:1065:C0A5 (talk) identified as vandalism to last revision by ज्हाझक्हाक्...
(छोटा सा सुधार किया।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
छो (Reverted 1 edit by 2405:204:A185:E16:0:0:1065:C0A5 (talk) identified as vandalism to last revision by ज्हाझक्हाक्...)
[bah such shah's HSBC NDBs jab[File:Sitar full.jpg|thumb|सितार]]
'''सितार''' भारत के सबसे लोकप्रिय वाद्ययंत्रों में से एक है, जिसका प्रयोग [[शास्त्रीय संगीत]] से लेकर हर तरह के संगीत में किया जाता है। इसके इतिहास के बारे में अनेक मत हैं किंतु अपनी पुस्तक भारतीय संगीत वाद्य में प्रसिद्ध विचित्र वीणा वादक डॉ लालमणि मिश्र ने इसे प्राचीन त्रितंत्री वीणा का विकसित रूप सिद्ध किया। सितार पूर्ण भारतीय वाद्य है क्योंकि इसमें भारतीय वाद्योँ की तीनों विशेषताएं हैं। तंत्री या तारों के अलावा इसमें घुड़च, तरब के तार तथा सारिकाएँ होती हैं। कहा जाता है कि भारतीय तन्त्री वाद्यों का सर्वाधिक विकसित रूप है।
 
150

सम्पादन