"कडपा जिला": अवतरणों में अंतर

3 बाइट्स जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
→‎इतिहास और विरासत: सुधार और सफाई
छो (बॉट: आंशिक लिप्यंतरण)
(→‎इतिहास और विरासत: सुधार और सफाई)
इस जिले का ईसापूर्व इतिहास ज्ञात है जब यह [[मौर्य साम्राज्य]] के अन्तर्गत आता था। उसके बाद यह [[सातवाहन|सातवाहनों]] के साम्राज्य का अंग बना। कडप्पा का नाम ''गडापा'' से आया है जिसका [[तेलगू]] भाषा में अर्थ होता है - ''चरम'' या ''पारसीमा''। कहा जाता है पूर्व में लोग [[तिरुपति]] मंदिर के दर्शन से पहले इस जिले के ''देवुनी कडापा'' मंदिर में जाते थे।
 
यहां का एक प्रसिद्ध स्थल पेद्दा दरगाह या अमीन पीर दरगाह भी है जहाँ ''हज़रत ख़्वाज़ा सैय्यद शाह पीरूल्लाह मुहम्मद-उल-हुसैनी'' ने जीव समाधि ली थी। इसका ''दूसरा [[अजमेर]]'' भी कहते है।हैं। हाल में यह चर्चा में इसलिए आया था कि यहां पर [[जया बच्चन]], अभिषेक तथा [[ऐश्वर्या राय]] विशेष प्रार्थना करने आए थे। इसके अतिरिक्त संगीतकार [[ए आर रहमान]] भी इसके दर्शनार्थ यहां आया करते हैं।
 
मस्ज़िद-ए-आज़म फ़ारसी कला में बनी एक सुन्दर मस्जिद है जिसे १६९१ में [[औरंगजेब]] ने बनवाया था। कडप्पा का सेंट मेरी का गिरिजाघर भी प्रसिद्ध है जहाँ माँ मेरी की प्रतिमा को [[रोम]] से लाकर स्थापित किया गया था।