"राही मासूम रज़ा": अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: आंशिक लिप्यंतरण
छो (प्रचार कड़ी हटाया।)
छो (बॉट: आंशिक लिप्यंतरण)
 
[[१९६८]] से राही [[मुंबई|बम्बई]] में रहने लगे थे। वे अपनी साहित्यिक गतिविधियों के साथ-साथ फिल्मों के लिए भी लिखते थे जो उनकी जीविका का प्रश्न बन गया था। राही स्पष्टतावादी व्यक्ति थे और अपने धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रीय दृष्टिकोण के कारण अत्यन्त लोकप्रिय हो गए थे। यहीं रहते हुए राही ने [[आधा गांव]], [[दिल एक सादा कागज]], [[ओस की बूंद]], [[हिम्मत जौनपुरी]] उपन्यास व [[१९६५]] के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए वीर अब्दुल हमीद की जीवनी [[छोटे आदमी की बड़ी कहानी]] लिखी। उनकी ये सभी कृतियाँ हिंदी में थीं। इससे पहले वह उर्दू में एक [[महाकाव्य]] १८५७ जो बाद में हिन्दी में [[क्रांति कथा]] नाम से प्रकाशित हुआ तथा छोटी-बड़ी उर्दू नज़्में व गजलें लिखे चुके थे। [[आधा गाँव]], [[नीम का पेड़]], [[कटरा बी आर्ज़ू]], [[टोपी शुक्ला]], [[ओस की बूंद]] और [[सीन ७५]] उनके प्रसिद्ध उपन्यास हैं।<ref>{{cite web |url= http://www.sahityashilpi.com/2008/10/blog-post_5563.html|title= डॉ॰ राही मासूम रजा - जीवनवृत्त एवं कृतित्व=[[७ अक्टूबर]]|accessyear=[[२००८]]|format= एचटीएमएल|publisher= साहित्य शिल्पी|language=}}</ref> पिछले कुछ वर्षों प्रसिद्धि में रहीं हिन्दी पॉप गायिका पार्वती खान का विवाह इनके पुत्र नदीम खान, हिन्दी फिल्म निर्देशक एवं सिनेमैटोग्राफर से हुआ था।
== संदर्भसन्दर्भ ==
<references/>