"अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: आंशिक लिप्यंतरण
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
छो (बॉट: आंशिक लिप्यंतरण)
इसका दूसरा द्वितीय अखिल भारतीय अधिवेशन : कोलकाता [[१९३८]], तृतीय अखिल भारतीय अधिवेशन : दिल्ली [[१९४२]], चौथा अखिल भारतीय अधिवेशन : मुम्बई [[१९४५]], पांचवां अखिल भारतीय अधिवेशन : भीमड़ी [[१९४९]], छठा अखिल भारतीय अधिवेशन : दिल्ली [[१९५३]] में हुआ। [[१९५४]] तक पहुँचते पहुँचते यह आंदोलन आपसी सामंजस्य की कमी, सामाजिक परिवर्तनों और उद्देश्यहीनता के कारण धीमा पढ़ने लगा और इसका बाद इसका कोई अधिवेशन नहीं हुआ।<ref>{{cite web |url= http://yugvimarsh.blogspot.com/2008/06/blog-post_14.html|title= प्रगतिशील लेखक आन्दोलन : जड़ों की पहचान |accessmonthday=[[२६ जून]]|accessyear=[[2008]]|format= एचटीएमएल|publisher= युग विमर्श|language=}}</ref>
 
== संदर्भसन्दर्भ ==
<references/>