"क़्वीन (बैंड)": अवतरणों में अंतर

आकार में बदलाव नहीं आया ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (चंद्र शेखर ने रानी (बैंड) पृष्ठ क़्वीन (बैंड) पर स्थानांतरित किया: सही नाम।)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
'''क़्वीन''' एक ब्रिटिश रॉक [[बैंड]] है, जिसका गठन में [[लंदन]] में 1970 में हुआ था। [[फ़्रेडडी मर्करी|फ्रेडी मर्करी]] (मुख्य गायक, पियानो वादक), ब्रायन मे (मुख्य गिटार वादक, गायक), रोजर टेलर (ड्रम, आवाज), और जॉन डीकॉन (बास गिटार) उसके शुरुवाती सदस्य थे। क़्वीन्स के शुरुवाती कार्य प्रगतिशील रॉक, [[हार्ड रॉक]] और [[हैवी मेटल (संगीत कला)|हैवी मेटल]] से प्रभावित थे। लेकिन बैंड बाद में धीरे-धीरे वो और अधिक पारंपरिक, पॉप रॉक और रेडियो प्रिय संगीत करने लगता है।
 
इसके गठन से पहले, ब्रायन मई और रोजर टेलर एक साथ एक बैंड '''स्माइल''' में करते थे। फ्रेडी मर्करी (जाने जाते हैं, अपने जन्म के नाम फारोख "ईेडी" बुल्सारा से) ''स्माइल'' के एक प्रशंसक थे जिन्होंने उन्हें अधिक विस्तृत मंच और रिकॉर्डिंग तकनीकों के साथ प्रयोग करने के लिये प्रोत्साहित किया। मर्करी १९७० में बैंड में शामिल हो गए और बैंड का नया नाम, क्वीन रखने का सुझाव दिया। जॉन डीकॉन १९७३ में बैंड के पहले एल्बम की रिकॉर्डिंग से पहले बैंड में भर्ती किये गये थे। क़्वीन १९७४ में ब्रिटेन के संगीत बाजार में अपने दूसरे एल्बम, ''क़्वीन २'' के साथ उतरे, लेकिन वर्षांत में ''शीयर हर्ट अटैक'' व 1975 में एल्बम ''ए नाइट एट'' ''ओपेरा'' ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय सफलता व ख्याति दिलाई। एल्बम के गाने विशेष रुपरूप से ''बोहेमियन धुन'' ९ हफ्तों तक संगीत बाजार में शीर्ष पर रहा और बैंड व उसके वीडियो को प्रसिद्ध कर दिया। उनके 1977 के एलबम ''न्यूज ऑफ़ द वर्ल्ड'' के गाने,"''वी विल रॉक यू''" और "''वी आर चैम्पियन''" खेल आयोजनों के लिये मुख्य जोशीले धुन बन गए। 1980 के दशक की शुरुवात में, क़्वीन दुनिया में सबसे बड़ा स्टेडियम रॉक बैंड बन गया था। उनका 1985 का ''लाइव एड'' संगीत कार्यक्रम इतिहास के विभिन्न संगीत प्रदर्शनों में सर्वश्रेष्ठ में से एक और 2005 में किये गये एक औद्योगिक सर्वेक्षण के अनुसार सबसे अच्छा माना गया। 1991 में मर्करी की ब्रोन्कोनिमोनिया से मृत्यु हो गई। डीकॉन 1997 में सेवानिवृत्त हो गये। तब से ब्रायन और फ्रेडी ने कभी कभी एक साथ प्रदर्शन किया है।
 
[[श्रेणी:संगीत बैंड]]