"गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
[[वृंदावन]] में श्री राधा रमण जी का मन्दिर श्री गौड़ीय वैष्णव सम्प्रदाय के सुप्रसिद्ध मन्दिरों में से एक है। श्री गोपाल भट्ट जी शालिग्राम शिला की पूजा करते थे। एक बार उनकी यह अभिलाषा हूई की शालिग्राम जी के हस्त-पद होते तो मैं इनको विविध प्रकार से सजाता एवं विभिन्न प्रकार की पोशाक धारण कराता। भक्त वत्सल श्री कृष्ण जी ने उनकी इस मनोकामना को पूर्ण किया एवं शालिग्राम से श्री राधारमण जी प्रकट हुए। श्री राधा रमण जी के वामांग में गोमती चक्र सेवित है। इनकी पीठ पर शालिग्राम जी विद्यमान हैं।
 
== यहइन्हें भी देखें ==
* [[इस्कॉन]]
* [[भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद]]