"बज्जिका शब्दावली" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: कोष्टक () की स्थिति सुधारी।)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
'''[[देशज]] शब्द'''--बज्जिका में प्रयुक्त होने वाले '''देशज''' शब्द लुप्तप्राय हैं। इसके सबसे अधिक उपयोगकर्ता गाँव में रहने वाले निरक्षर या किसान हैं। ''देशज'' का अर्थ है - जो देश में ही जन्मा हो। जो न तो विदेशी है और न किसी दूसरी भाषा के शब्द से बना हो। ऐसा शब्द जो स्थानीय लोगों ने बोल-चाल में यों ही बना लिया गया हो। बज्जिका में ऐसे शब्दों को देशज के बजाय "मूल शब्द" भी कहा जा सकता है, जैसे- पन्नी (पॉलिथीन), फटफटिया (मोटर सायकिल), घुच्ची (छेद) आदि।
 
'''[[विदेशज]] शब्द''' हिन्दी के समान बज्जिका में भी कई शब्द [[अरबी]], [[फ़ारसी]], [[तुर्की]], [[अंग्रेज़ी]] आदि भाषा से भी आये हैं, इन्हें विदेशज शब्द कह सकते हैं। वास्तव में बज्जिका में प्रयोग होने वाले विदेशज शब्द का तद्भव रुपरूप ही प्रचलित है, जैसे-कौलेज, लफुआ (लोफर), टीशन (स्टेशन), गुलकोंच (ग्लूकोज़), सुर्खुरू (चमकते चेहरे वाला) आदि।
 
हिन्दी के समान बज्जिका को भी [[देवनागरी]] लिपि में लिखा जाता है। पहले इसे '''कैथी'' लिपि में भी लिखा जाता था। शब्दावली के स्तर पर अधिकांशत: [[हिंदी भाषा|हिंदी]] तथा [[उर्दू भाषा|उर्दू]] के शब्दों का प्रयोग होता है। फिर भी इसमें ऐसे शब्दों का इस्तेमाल प्रचलित है जिसका हिंदी में सामान्य प्रयोग नहीं होता। कुछ शब्दों की बानगी देखिए: