"वृद्धि हार्मोन" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: आंशिक लिप्यंतरण)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
युनाइटेड स्टेट्स में पिछले कुछ वर्षों में, कुछ डाक्टरों नें ताकत बढ़ाने के लिये जीएच (GH) की कमी से ग्रस्त अधिक उम्र के रोगियों (लेकिन स्वस्थ लोगों में नहीं) में वृद्धि हार्मोन देना शुरू कर दिया है। कानूनसम्मत होने पर भी, एचजीएच (HGH) के इस उपयोग की परीक्षा किसी नैदानिक प्रयोग में सामर्थ्य और सुरक्षा के लिये नहीं की गई है। फिलहाल, एचजीएच (hGH) को अभी भी काफी जटिल हार्मोन माना जाता है और इसके अनेक कार्य अभी भी अज्ञात हैं।<ref name="ped">{{cite book | author = Powers M | authorlink = | editor = Deidre Leaver-Dunn; Joel Houglum; Harrelson, Gary L. | others = | title = Principles of Pharmacology for Athletic Trainers | edition = | language = | publisher = Slack Incorporated | location = | year = 2005 | origyear = | pages = 331–332 | chapter = Performance-Enhancing Drugs| quote = | isbn = 1-55642-594-5 | oclc = | doi = | url = | accessdate = }}</ref>
 
जीएच (GH) के बुढ़ापाचविरोधी उपचार होने के दावे 1990 में शुरू हुए जब ''न्यू इंगलैंड जर्नल आफऑफ मेडिसिन'' द्वारा एक अध्ययन का प्रकाशन किया गया, जिसमें 60 वर्ष से अधिक वय के 12 पुरूषों का उपचार करने के लिये जीएच का प्रयोग किया गया।<ref name="pmid2355952">{{cite journal | author = Rudman D, Feller AG, Nagraj HS, Gergans GA, Lalitha PY, Goldberg AF, Schlenker RA, Cohn L, Rudman IW, Mattson DE | title = Effects of human growth hormone in men over 60 years old | journal = N. Engl. J. Med. | volume = 323 | issue = 1 | pages = 1–6 | year = 1990 | month = July | pmid = 2355952 | doi = 10.1056/NEJM199007053230101| url = | issn = }}</ref> अध्ययन के पूरे होने पर, सभी पुरूषों में सांख्यिकिय रूप से ध्यान देने योग्य दुबले शरीर पिंड और हड्डी खनिज में वृद्धि पाई गई, जब कि नियंत्रित समूह में ऐसा कुछ नहीं हुआ। अध्ययन के लेखकों ने पाया कि ये सभी सुधार 10- से 20- वर्ष की वृद्धावस्था अवधि में सामान्यतः होने वाले परिवर्तनों से विपरीत थे। इस तथ्य के बावजूद कि लेखकों ने यह दावा कभी नहीं किया कि जीएच (GH) ने बुढ़ापे की प्रक्रिया को ही पलटा दिया था, उनके परिणामों का गलत अर्थ लगाकर यह संकेत लिया गया कि जीएच (GH) एक प्रभावशाली बुढ़ापा-विरोधी एजेंट है।<ref name="physorg">{{cite journal | author = Liu H, Bravata DM, [[Ingram Olkin|Olkin I]], Nayak S, Roberts B, Garber AM, Hoffman AR | title = Systematic review: the safety and efficacy of growth hormone in the healthy elderly | journal = Ann. Intern. Med. | volume = 146 | issue = 2 | pages = 104–15 | year = 2007 | month = January | pmid = 17227934 | doi = | url = | issn = }}</ref><ref name="urlNo proof that growth hormone therapy makes you live longer, study finds">{{cite web | url = http://www.physorg.com/news88140162.html | title = No proof that growth hormone therapy makes you live longer, study finds | author = | authorlink = | coauthors = | date = 2007-01-16 | work = | publisher = PhysOrg.com | pages = | language = | archiveurl = | archivedate = | quote = | accessdate = 2009-03-16}}</ref><ref>स्टीफन बैरेट, एम.डी. ग्रोथ हॉर्मोन योजनाएं और घोटाले [http://www.quackwatch.com/01QuackeryRelatedTopics/hgh.html ]</ref> इसके फलस्वरूप विवादग्रस्त अमेरिकन एकेडमी आफऑफ एंटी-एजिंग मेडिसिन जैसै संगठनों द्वारा इस हार्मोन को एक "बुढ़ापा-विरोधी एजेंट" के रूप में प्रोत्साहित किया जाने लगा.<ref name="NYTPoison">{{cite news
| last = Kuczynski
| first = Alex
| url = http://www.nytimes.com/1998/04/12/style/anti-aging-potion-or-poison.html}}</ref>
 
इस विषय पर 2007 के प्रारंभ में स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी स्कूल आफऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित नैदानिक अध्ययनों के सर्वे में यह देखा गया कि स्वस्थ वयोवृद्ध रोगियों को जीएच (GH) देने पर उनकी पेशियों में 2 किग्रा की वृद्धि और इतनी ही मात्रा में शरीर की चर्बी में कमी हुई.<ref name="physorg"/> फिर भी, जीएच (GH) से होने वाले यही सकारात्मक प्रभाव थे। अन्य कोई भी महत्वपूर्ण कारक, जैसे, अस्थि घनत्व, कॉलेस्ट्राल स्तरों, वसा के मापनों, अधिकतम आक्सीजन उपभोग, या अन्य कोई भी कारक जो बढ़ी हुई चुस्ती का संकेत हो, प्रभावित नहीं हुए.<ref name="physorg"/> अन्वेषकों ने पेशियों की कार्यशक्ति में भी कोई लाभ नहीं पाया, जिससे उन्होंने यह समझा कि जीएच पेशियों की वृद्धि को न बढ़ाकर केवल शरीर को पेशियों में अधिक पानी जमा करने देता है। इससे दुर्बल शरीर पिंड में वृद्धि का कारण समझ में आता है।
 
जीएच (GH) का प्रयोग प्रायौगिक रूप से मल्टीपल स्क्लेरोसिस का उपचार करने के लिये, [[मोटापा|मोटापे]] में वजन की कमी को बढ़ाने, फाइब्रोमयाल्जिया, [[हृदयाघात|हृदय की असामर्थ्य]], क्रान के रोग और वृणयुक्त बृहदांत्रशोथ और जलने के उपचार के लिये भी किया गया है। जीएच का उपयोग [[एड्स|एड्स (AIDS)]] के कारण होने वाली गलन में पेशी-पिंड को बनाए रखने और लघु आंत्र रोगसमूह से ग्रस्त रोगियों में अंतर्शिरा संपूर्ण परामौखिक पोषण की आवश्यकता कम करने के लिये भी किया जाता है।
{{Reflist|2}}
 
== बाहरी लिंक्सकड़ियाँ ==
* [http://www.magicfoundation.org मैजिक फाउंडेशन], वृद्धि हार्मोन की कमी से ग्रस्त वयस्कों और बच्चों के लिये सहारा.
* [http://www.supprelinla.com केन्द्रीय समयपूर्व यौवनारंभ उपचार], सप्रेलिनएलए वृद्दि हार्मोन के विकारों से ग्रस्त बच्चों के लिये एक केंद्रीय समयपूर्व यौवनारंभ उपचार है।