"इन्दिरा गांधी" के अवतरणों में अंतर

90 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
{{Infobox officeholder
|name = इन्दिरा गांधी
|image =Indira2.jpg
|imagesize = 200px
|office = [[भारत के प्रधान मंत्री|भारत की तीसरी प्रधानमंत्री]]
|president = [[नीलम संजीव रेड्डी]]<br />[[ज्ञानी जैल सिंह]]
|term_start = 14 जनवरी 1980
|term_end = 31 अक्टूबर 1984
|predecessor = [[चौधरी चरण सिंह]]
|successor = [[राजीव गाँधी]]
|president2 = [[सर्वपल्ली राधाकृष्णन]]<br />[[ज़ाकिर हुसैन (राजनीतिज्ञ)|ज़ाकिर हुसैन]]<br />[[वराहगिरी वेंकट गिरी]] <small>(कार्यवाहक)</small><br />[[मोहम्मद हिदायतुल्ला]] <small>(कार्यवाहक)</small><br />[[वराहगिरी वेंकट गिरी]]<br />[[फखरुद्दिन अली अहमद]]<br />[[बसप्पा दनप्पा जट्टी]] <small>(कार्यवाहक)</small>
|deputy2 = [[मोरारजी देसाई]]
|term_start2 = 24 जनवरी 1966
|term_end2 = 24 मार्च 1977
|predecessor2 = [[गुलजारीलाल नन्दा]] <small>(कार्यवाहक)</small>
|successor2 = [[मोरारजी देसाई]]
|office3 = [[विदेश मंत्री (भारत)|विदेश मंत्री]]
|term_start3 = 9 मार्च 1984
|term_end3 = 31 अक्टूबर 1984
|predecessor3 = [[नरसिंह राव]]
|successor3 = [[राजीव गाँधी]]
|term_start4 = 22 अगस्त 1967
|term_end4 = 14 मार्च 1969
|predecessor4 = [[एम.सी.छागला|महोम्मेदाली करीम चागला]]
|successor4 = [[दिनेश सिंह]]
|office5 = [[रक्षा मंत्री (भारत)|रक्षा मंत्री]]
|term_start5 = 14 जनवरी1980
|term_end5 = 15 जनवरी 1982
|predecessor5 = [[चिदम्बरम् सुब्रह्मण्यम्]]
|successor5 = [[रामस्वामी वेंकटरमण]]
|term_start6 = 30 नवम्बर 1975
|term_end6 = 20 दिसम्बर 1975
|predecessor6 = [[सरदार स्वर्ण सिंह]]
|successor6 = [[बंसीलाल]]
|office7 = [[गृहमंत्री (भारत)|गृहमंत्री]]
|term_start7 = 27 जून 1970
|term_end7 = 4 फ़रवरी 1973
|predecessor7 = [[यशवंतराव चौहान]]
|successor7 = [[उमा शंकर दीक्षित]]
|office8 = [[वित्त मंत्री (भारत)|वित्त मंत्री]]
|term_start8 = 16 जुलाई 1969
|term_end8 = 27 जून 1970
|predecessor8 = [[मोरारजी देसाई]]
|successor8 = [[यशवंतराव चौहान]]
|birth_date = {{birth date|1917|11|19|df=y}}
|birth_place = [[इलाहाबाद]], [[ब्रिटिश राज|ब्रिटिश भारत]]
|death_date = {{death date and age|1984|10|31|1917|11|19|df=y}}
|death_place = [[नई दिल्ली]], [[भारत]]
|party = [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस]]
|spouse = [[फिरोज गांधी]]
|relations = [[जवाहरलाल नेहरू]] (पिता)<br /> [[कमला नेहरू]] (माता)
|children = [[राजीव गाँधी|राजीव]]<br />[[संजय गांधी|संजय]]
|alma_mater = [[सोमरविल कॉलेज, ऑक्सफोर्ड]]
|religion = [[हिन्दू धर्म|हिन्दू]]
|signature = Indira Gandhi Signature-.svg
}}
[[चित्र:Gandhi and Indira 1924.jpg|thumb|right|युवा इन्दिरा नेहरू और[[महात्मा गांधी]] एक अनशन के दौरान]]
इन्दिरा का जन्म 19 नवम्बर 1917 को राजनीतिक रूप से प्रभावशाली [[नेहरू-गांधी परिवार|नेहरू परिवार]] में हुआ था। इनके पिता [[जवाहरलाल नेहरू]] और इनकी माता [[कमला नेहरू]] थीं।
 
इन्दिरा को उनका "गांधी" उपनाम [[फिरोज गांधी|फिरोज़ गाँधी]] से [[विवाह]] के पश्चात मिला था।<ref>[http://hindi.webdunia.com/national-hindi-news/indira-gandhi-former-india-pm-firoge-gandhi-115062500010_1.html इंदिरा इस तरह बनीं गांधी, पढ़ें पूरी कहानी...] (वेबदुनिया)</ref> इनका [[मोहनदास करमचंद गाँधी]] से न तो खून का और न ही शादी के द्वारा कोई रिश्ता था। इनके पितामह [[मोतीलाल नेहरू]] एक प्रमुख भारतीय राष्ट्रवादी नेता थे। इनके पिता [[जवाहरलाल नेहरू]] भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के एक प्रमुख व्यक्तित्व थे और आज़ाद भारत के प्रथम प्रधानमंत्री रहे।
 
1934–35 में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के पश्चात, इन्दिरा ने [[शान्तिनिकेतन]] में [[रवीन्द्रनाथ टैगोर]] द्वारा निर्मित [[विश्व-भारती विश्वविद्यालय]] में प्रवेश लिया। रवीन्द्रनाथ टैगोर ने ही इन्हे "प्रियदर्शिनी" नाम दिया था। इसके पश्चात यह इंग्लैंड चली गईं और [[ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय]] की प्रवेश परीक्षा में बैठीं, परन्तु यह उसमे विफल रहीं और [[ब्रिस्टल]] के [[बैडमिंटन स्कूल]] में कुछ महीने बिताने के पश्चात, 1937 में परीक्षा में सफल होने के बाद इन्होने [[सोमरविल कॉलेज, ऑक्सफोर्ड]] में दाखिला लिया। इस समय के दौरान इनकी अक्सर फिरोज़ गाँधी से मुलाकात होती थी, जिन्हे यह [[इलाहाबाद]] से जानती थीं और जो [[लंदन स्कूल ऑफ इकॉनॉमिक्स]] में अध्ययन कर रहे थे। अंततः 16 मार्च 1942 को आनंद भवन, इलाहाबाद में एक निजी आदि धर्म [[ब्रह्म]]-[[वेद|वैदिक]] समारोह में इनका विवाह फिरोज़ से हुआ।
गांधी ने स्वयं के असाधारण अधिकार प्राप्ति हेतु आपातकालीन प्रावधानों का इस्तेमाल किया।
<blockquote>
"उनके पिता नेहरू के विपरीत, जो अपने विधायी दलों और राज्य पार्टी संगठनों के नियंत्रण में मजबूत मुख्यमंत्रियों से निपटना पसंद करते थे, श्रीमती गांधी प्रत्येक कांग्रेसी मुख्यमंत्री को, जिनका एक स्वतंत्र आधार होता, हटाने तथा उन मंत्रिओं को जो उनके प्रति व्यक्तिगत रूप से वफादार होते, उनके स्थालाभिसिक्त करने में लग गईं... फिर भी राज्यों में स्थिरता नहीं रखी जा सकी..."<ref>ब्रास, पौल आर., ''आजादी के बाद भारत की राजनीति'', (कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, इंग्लैंड 1995) पी.40</ref>
</blockquote>
 
गठबंधन के विभिन्न पक्षों में आपसी लडाई में लिप्तता के चलते शासन में असमर्थ जनता सरकार के गृह मंत्री [[चौधरी चरण सिंह]] कई आरोपों में इंदिरा गाँधी और संजय गाँधी को गिरफ्तार करने के आदेश दिए, जिनमे से कोई एक भी भारतीय अदालत में साबित करना आसन नहीं था। इस गिरफ्तारी का मतलब था इंदिरा स्वतः ही संसद से निष्कासित हो गई। परन्तु यह रणनीति उल्टे अपदापूर्ण बन गई। उनकी गिरफ्तारी और लंबे समय तक चल रहे मुकदमे से उन्हें बहुत से वैसे लोगों से सहानुभूति मिली जो सिर्फ दो वर्ष पहले उन्हें तानाशाह समझ डर गये थे।
 
जनता गठबंधन सिर्फ़ श्रीमती गांधी (या "वह औरत" जैसा कि कुछ लोगोने उन्हें कहा) की नफरत से एकजुट हुआ था। छोटे छोटे साधारण मुद्दों पर आपसी कलहों में सरकार फंसकर रह गयी थी और गांधी इस स्थिति का उपयोग अपने पक्ष में करने में सक्षम थीं। उन्होंने फिर से, आपातकाल के दौरान हुई "गलतियों" के लिए कौशलपूर्ण ढंग से क्षमाप्रार्थी होकर भाषण देना प्रारम्भ कर दिया। जून 1979 में देसाई ने इस्तीफा दिया और श्रीमती गांधी द्वारा वादा किये जाने पर कि कांग्रेस बाहर से उनके सरकार का समर्थन करेगी, रेड्डी के द्वारा चरण सिंह प्रधान मंत्री नियुक्त किए गये।
 
एक छोटे अंतराल के बाद, उन्होंने अपना प्रारंभिक समर्थन वापस ले लिया और राष्ट्रपति रेड्डीने 1979 की सर्दियों में संसद को भंग कर दिया। अगले जनवरी में आयोजित चुनावों में कांग्रेस पुनः सत्ता में वापस आ गया था
=== ओपरेशन ब्लू स्टार और राजनैतिक हत्या ===
 
गांधी के बाद के वर्ष [[पंजाब (भारत)|पंजाब]] समस्याओं से जर्जर थे। सितम्बर 1981 में [[जरनैल सिंह भिंडरावाले]] का [[अलगाववादी]] सिख आतंकवादी समूह सिख धर्म के पवित्रतम तीर्थ, [[हरिमन्दिर साहिब]] परिसर के भीतर तैनात हो गया। स्वर्ण मंदिर परिसर में हजारों नागरिकों की उपस्थिति के बावजूद गांधी ने आतंकवादियों का सफया करने के एक प्रयास में सेना को धर्मस्थल में प्रवेश करने का आदेश दिया। सैन्य और नागरिक हताहतों की संख्या के हिसाब में भिन्नता है। सरकारी अनुमान है चार अधिकारियों सहित उनासी सैनिक और 492 आतंकवादी; अन्य हिसाब के अनुसार, संभवत 500 या अधिक सैनिक एवं अनेक तीर्थयात्रियों सहित 3000 अन्य लोग गोलीबारी में फंसे.<ref>रामचंद्र गुहा''गाँधी के बाद भारत ''पन्ना 563</ref> जबकि सटीक नागरिक हताहतों की संख्या से संबंधित आंकडे विवादित रहे हैं, इस हमले के लिए समय एवं तरीके का निर्वाचन भी विवादास्पद हैं।
इन्दिरा गांधी के बहुसंख्यक अंगरक्षकों में से दो थे [[सतवंत सिंह]] और [[बेअन्त सिंह]], दोनों सिख.[[३१ अक्टूबर]] [[1984]] को वे अपनी सेवा हथियारों के द्वारा 1, सफदरजंग रोड, नई दिल्ली में स्थित प्रधानमंत्री निवास के बगीचे में इंदिरा गांधी की राजनैतिक हत्या की। <ref name="ibn">http://khabar.ibnlive.in.com/news/115182/12/4 जब हिल उठा देशः इंदिरा गांधी की हत्या</ref> वो [[ग्रेट ब्रिटेन|ब्रिटिश]] अभिनेता [[पीटर उस्तीनोव]] को आयरिश टेलीविजन के लिए एक वृत्तचित्र फिल्माने के दौरान साक्षात्कार देने के लिए सतवंत और बेअन्त द्वारा प्रहरारत एक छोटा गेट पार करते हुए आगे बढ़ी थीं। इस घटना के तत्काल बाद, उपलब्ध सूचना के अनुसार, बेअंत सिंह ने अपने बगलवाले शस्त्र का उपयोग कर उनपर तीन बार गोली चलाई और सतवंत सिंह एक स्टेन कारबाईन का उपयोग कर उनपर बाईस चक्कर गोली दागे. उनके अन्य अंगरक्षकों द्वारा बेअंत सिंह को गोली मार दी गई और सतवंत सिंह को गोली मारकर [[गिरफ्तार]] कर लिया गया।
 
* उनकी हत्या का जिक्र[[टॉम क्लेन्सि]] द्वारा अपने उपन्यास [[एक्जीक्यूटिव ऑर्डर्स]] में किया गया है।
* यद्यपि कहीं भी नाम का उल्लेख नहीं मिलता है, [[रोहिंतों मिस्त्री]] के ''[[ऐ फाईन बैलेंस]]'' में इंदिरा गांधी ही स्पष्ट रूप से प्रधानमंत्री है।
* [[सलमान रुशदी]] के उपन्यास ''[[मिडनाइट्स चिल्ड्रन]]'' में इंदिरा, जिन्हें सारे उपन्यास में "दा विडो" बुलाया जाता है, स्वयं जिम्मेदार है अपने अविस्मरनीय चरित्र के पतन के लिए। इंदिरा गाँधी का यह चित्रण, इसमे उनके एवं उनकी नीतिओं, दोनों के रूखे प्रदर्शन से कुछ खेमों में विवादित है।
* [[शशि थरूर]] की ''[[दा ग्रेट इंडियन नोवेल]]'' में प्रिय [[दुर्योधन]] का चरित्र साफ़ साफ़ इंदिरा गाँधी को संदर्भित करता है।
* "[[आंधी]]", [[गुलज़ार]] द्वारा निर्देशित एक हिन्दी चलचित्र (फीचर फ़िल्म) है, जो आंशिक रूप से इंदिरा की जिंदगी के कुछ घटनाओं, विशेष रूप से उनकी ([[सुचित्रा सेन]] द्वारा फिल्माया गया) उनके पति के साथ कठिन सम्बन्ध ([[संजीव कुमार]] द्वारा फिल्माया गया), का काल्पनिक अनुकरण है।