"क्षेमेंद्र" के अवतरणों में अंतर

66 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
[[File:Kshemendra.jpg|thumb| क्षेमेन्द्र- एक काश्मीरी महाकवि ]]
'''क्षेमेन्द्र''' (जन्म लगभग 1025-1066) [[संस्कृत]] के प्रतिभासंपन्न [[कश्मीर|काश्मीरी]] महाकवि थे। ये विद्वान ब्राह्मणकुल में उत्पन्न हुए थे। ये सिंधु के प्रपौत्र, निम्नाशय के पौत्र और प्रकाशेंद्र के पुत्र थे। इन्होंने प्रसिद्ध आलोचक तथा तंत्रशास्त्र[[तंत]]रशास्त्र के मर्मज्ञ विद्वान् [[अभिनवगुप्त]] से [[साहित्यशास्त्र]] का अध्ययन किया था। इनके पुत्र [[सोमेन्द्र]] ने पिता की रचना '''बोधिसत्त्वावदानकल्पलता''' को एक नया पल्लव (कथा) जोड़कर पूरा किया था।
 
== काल ==
इन्होंने अपने ग्रंथों के रचनाकाल का उल्लेख किया है जिससे इनके आविर्भाव के समय का परिचय हमें मिलता है। काश्मीर नरेश अनंत (1028-1063) तथा उनके पुत्र और उत्तराधिकारी राजा कलश (1063-1089) के राज्यकाल में क्षेमेंद्रक्षेमेन्द्र का जीवन व्यतीत हुआ। क्षेमेन्द्रकेक्षेमेन्द्र के ग्रंथ [[समयमातृका]] का रचनाकाल 1050 ई. तथा इनके अंतिम ग्रंथ [[दशावतारचरित]] का निर्माण काल इनके ही लेखानुसार 1066 ई. है। फलत: एकादश शती का मध्यकलमध्यकाल (लगभग 1025-1066) क्षेमेंद्र के आविर्भाव का, निश्चित रूप से, समय माना जा सकता है।
 
== रचना संसार ==
* [http://www.transliteral.org/pages/i110919083245/view क्षेमेन्द्रकृत '''समयमातृका''']
* [https://sa.wikisource.org/wiki/%E0%A4%A6%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AA%E0%A4%A6%E0%A4%B2%E0%A4%A8%E0%A4%AE%E0%A5%8D क्षेमेन्द्रकृत '''दर्पदलनम्''']
* [http://sanskrit-books.blogspot.in/2013/09/bharatha-manjari-of-kshemendra.html भारतमञ्जरी]
 
[[श्रेणी:संस्कृत साहित्यकार]]