मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

150 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
{{Infobox Indian Jurisdictions
|native_name = कोलकाता (कलकत्ता)
|other_name = কলকাতা (কলিকাতা) </br>
|type = महानगर
|type_2 = राजधानी
|latd = 22.5697
|longd = 88.3697
|locator_position = left
|skyline =
|skyline_caption = [[विक्टोरिया मेमोरियल]] एवं अन्य स्थल, कोलकाता
|state_name = पश्चिम बंगाल
|district = कलकत्ता <sup>[[#शहरी संरचना|'''†''']]</sup>
|leader_title_1 = महापौर
|leader_name_1 = [[बिकाश रंजन भट्टाचार्य]]
|altitude = 9
|population_as_of = 2008
|population_total = 7,780,544
|population_metro = 16,681,589
|official_languages = [[बांग्ला]], [[अंग्रेज़ी]]
|population_density = 42057
|area_total = 1886.67
|area_telephone = 91 (33)
|postal_code = 700 xxx
|unlocode = IN CCU
|website = www.kolkatamycity.com
|footnotes = <sup>'''†'''</sup>&nbsp;कोलकाता शहरी क्षेत्र में ये भी आते हैं:- [[उत्तर २४ परगना]], [[दक्षिण २४ परगना]], [[हावड़ा]] एवं [[हुगली]] जिले}}
<!--
{{Infobox Indian Jurisdiction |
| नगर का नाम = कोलकाता <br> কলকাতা
| प्रकार = महानगर
|latd = 22.33|longd=88.20
| प्रदेश = पश्चिम बंगाल
| जिला = [[कोलकाता जिला|कोलकाता]]
| शासक का नाम 2 = [[बिकाश भट्टाचार्य]]
| ऊँचाई = 9
| जनगणना का वर्ष = 2001
| जनसंख्या = 4,580,544
| घनत्व = 24,760
| क्षेत्रफल = 1886.67
| दूरभाष कोड = 91(0)33
| पिनकोड = 700 xxx
| वाहन रेजिस्ट्रेशन कोड = WB-01—WB-04
| skyline = Victoria Memorial Hall.png|left|200px
| skyline_caption = महलों के शहर · सिटी ओफ़ जॉय
| वेबसाइट = www.kolkatamycity.com
| टिप्पणियाँ = |
}}
-->
 
}}</ref> जो गहरे [[स्मॉग]] और [[धुंध]] का कारण बनता है। शहर में भीषण प्रदूषण ने प्रदूषण-संबंधी श्वास रोगों जैसे फेफड़ों के कैंसर को बढावा दिया है।<ref name=BBC51707>{{cite news
| first = Subir | last = Bhaumik | title = Oxygen supplies for India police
| url = http://news.bbc.co.uk/2/hi/south_asia/6665803.stm | work = South Asia | publisher = BBC
| date = [[17 मई]] [[2007]] | accessdate = 2007-06-23 }}</ref>
कोलकाता को लंबे समय से अपने साहित्यिक, क्रांतिकारी और कलात्मक धरोहरों के लिए जाना जाता है। भारत की पूर्व राजधानी रहने से यह स्थान आधुनिक भारत की साहित्यिक और कलात्मक सोच का जन्मस्थान बना। कोलकातावासियों के मानस पटल पर सदा से ही कला और साहित्य के लिए विशेष स्थान रहा है। यहां नयी प्रतिभाको सदा प्रोत्साहन देने की क्षमता ने इस शहर को '''अत्यधिक सृजनात्मक ऊर्जा का शहर''' (''सिटी ऑफ फ़्यूरियस क्रियेटिव एनर्जी'') बना दिया है।<ref name=sinha>{{cite book
|author =पी सिन्हा|year=१९९० |title=कोलकाता — द लिविंग सिटी, खंड-१: द पास्ट
|chapter = कोलकाता एण्ड द करेन्ट्स ऑफ द हिस्ट्री |editor=चौधई एस. (संपा.) |publisher=ऑक्स्फ़ोर्ड युनिवर्सिटी प्रेस, ऑक्स्फ़ोर्ड }}<br /> Cited by: {{cite web
|author =Heierstad G | publisher=University of Oslo, Norway| url=http://folk.uio.no/gheierst/nandikar.pdf | title=नंदीकर: स्टेजिंग ग्लोबालाइज़ेशन इन कोलकाता एण्ड अब्रॉड | page=102 |year=2003| format= PDF | accessdate=2006-04-26}}</ref> इन कारणों से ही कोलकाता को कभी कभी भारत की सांस्कृतिक राजधानी भी कह दिया जाता है, जो अतिश्योक्ति न होगी।