"ग्रिम की परी कथाएँ": अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
No edit summary
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
 
 
 
ग्रीम बंधुओ द्वारा ८६ कथाओं का प्रथम अंक सं १८१२ ईस्वी में प्रकाशित किया गया .दूसरा अंक सं १८१५ ईसवी में प्रकाशित किया गया जिसमे ७० कथाएं थीं इसका दूसरा संस्करण १८१९ में दो भागो में तथा तीसरा संस्करण १८२२ में प्रकाशित हुआ जिसमे १७० अथाओं का समावेश था .सातवे संस्करण में कुल 211 कथाएं थीं
 
प्रथम संस्करण की कथों को बाल -कथा के तौर पर प्रस्तुत करने पार उनकी आलोचना हुई ,जन्हे बाद में परिवर्तित और परिवर्धित किया गया .