"निघंटु" के अवतरणों में अंतर

20 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
'''निघंटु''' शब्द का अर्थ नामसंग्रह है। 'नि' उपसर्गक 'घटि' धातु से 'मृगव्यादयश्च' उणा. १.३८ सूत्र से कु प्रत्यय करने पर निघंटु शब्द व्युत्पन्न होता है।
 
==परम्परागत निघण्टु==
 
==आयुर्वेद के निघण्टु==
: अभिधानमञ्जरी ; अभिधानरत्नमाला ; अमरकोश ; अष्टाङ्गनिघण्टु ; कैयदेवनिघण्टु
: चमत्कारनिघण्टु ; द्रव्यगुणसङ्ग्रह ; धन्वन्तरिनिघण्टु ; निघण्टुशेष ; पर्यायरत्नमाला
: भावप्रकाशनिघण्टु ; मदनपालनिघण्टु ; मदनादिनिघण्टु ; माधवद्रव्यगुण ; राजनिघण्टु
: राजवल्लभनिघण्टु ; लघुनिघण्टु ; शब्दचन्द्रिका ; शिवकोष ; सरस्वतीनिघण्टु
: सिद्धमन्त्र ; सिद्धसारनिघण्टु ; सोढलनिघण्टु ; सौश्रुतनिघण्टु ; हृदयदीपकनिघण्टु
 
== इन्हें भी देखें ==
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[http://niimh.nic.in/ebooks/e-Nighantu/?mod=read e-NIGHANTU] (Collection of Āyurvedic Lexicons)
 
[[श्रेणी:संस्कृत]]