मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

103 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
{{आज का आलेख}}
{{Infobox Indian Jurisdictions
|type = town
|native_name = <small>किसुवोलाल ([[कन्नड़]]:ಕಿಸುವೊಲಾಲ್)</small><ref name="टूर"/>
|other_name = पत्तदकल <small>(ಪಟ್ಟದಕಲ್ಲು)</small>
|district = बागलकोट
|state_name = कर्नाटक
|nearest_city = [[बादामी]]
|parliament_const =
|assembly_const =
|civic_agency =
|latd = 16.019167
|longd = 75.881944
|locator_position = right
|area_total = 14.56
|area_magnitude =
|altitude = 593
|population_total =146808
|population_as_of = 1981
|population_density =
|sex_ratio =
|literacy =
|area_telephone =
|postal_code =
|vehicle_code_range =
|climate=
|temp_summer = 41
|temp_winter = 16
|precip = 51.3
|website= www.pattadakal.com
|skyline = Group_of_monuments_At_Pattadakal.jpg
|skyline_caption = पत्तदकल में स्मारक परिसर
}}
'''पत्तदकल''' ([[कन्नड़ भाषा|कन्नड़]] - ಪಟ್ಟದಕಲ್ಲು) [[भारत]] के [[कर्नाटक]] राज्य में एक कस्बा है, जो [[भारतीय स्थापत्यकला]] की [[वेसर]] शैली के आरम्भिक प्रयोगों वाले स्मारक समूह के लिये प्रसिद्ध है। ये मंदिर [[आठवीं शताब्दी]] में बनवाये गये थे। यहाँ [[भारतीय स्थापत्यकला|द्रविड़]] (दक्षिण भारतीय) तथा [[भारतीय स्थापत्यकला|नागर]] (उत्तर भारतीय या आर्य) दोनों ही शैलियों के मंदिर हैं। पत्तदकल दक्षिण भारत के [[चालुक्य वंश]] की राजधानी [[बादामी]] से २२ कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित हैं। [[चालुक्य वंश]] के राजाओं ने [[सातवीं शताब्दी|सातवीं]] और [[आठवीं शताब्दी]] में यहाँ कई मंदिर बनवाए। [[एहोल]] को स्थापत्यकला का विद्यालय माना जाता है, [[बादामी]] को महाविद्यालय तो पत्तदकल को विश्वविद्यालय कहा जाता है।<ref>{{cite web