मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

3 बैट्स् नीकाले गए, 2 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
[[चित्र:IST-Mirzapur.svg|thumb|[[मिर्ज़ापुर]] और 82.5° पू के स्थान, जो भारतीय मानक समय के संदर्भ लम्बाई के लिए व्यवहार होता है]]
 
'''भारतीय मानक समय''' (संक्षेप में '''आइएसटी''') ([[अंग्रेज़ी भाषा|अंग्रेज़ी]]: Indian Standard Time ''इंडियन् स्टैंडर्ड् टाइम्'', IST) भारत का [[समय मंडल]] है, एक [[यूटीसी+5:30]] [[समय ऑफ़सेट]] के साथ में। भारत में [[दिवालोक बचत समय]] (डीएसटी) या अन्य कोइ मौसमी समायोग नहीं है, यद्यपि डीएसटी [[भारत-चीन युद्ध|1962 भारत-चीन युद्ध]], [[१९६५ का भारत-पाक युद्ध|1965 भारत-पाक युद्ध]] और [[१९७१ का भारत-पाक युद्ध|1971 भारत-पाक युद्ध]] में व्यवहार था।<ref name="timez">{{cite web | url =http://wwp.india-time.com/indian-time-zones.htm | title =India Time Zones | accessmonthday =[[25 नवंबर]]|accessyear=[[2006]]| work=[http://wwp.greenwichmeantime.com ग्रेनिच मानसमय (जीएमटी)]}}</ref> सामरिक और विमानन समय में, आइएसटी का '''E*''' ("गूंज-सितारा") के साथ में नामित होता है।<ref>{{cite web | url = http://wwp.greenwichmeantime.com/info/timezone.htm
| title = Military and Civilian Time Designations | accessmonthday =[[2 दिसंबर]]|accessyear=[[2006]]| work=[http://wwp.greenwichmeantime.com ग्रेनिच मानसमय (जीएमटी)]}}</ref>
 
 
== समस्याएँ ==
देश की पूर्व-पश्चिम दूरी लगभग २९३३ किलोमीटर है जिसके कारण पूर्व में सूर्योदय और सूर्यास्त पश्चिम से २ घंटे जल्दी होता है और इसीलिए उत्तर-पूर्व राज्यों के लोगों को उनकी घड़ियाँ आगे बढ़ने की आवश्यकता होती हैं जिससे सूर्योदय के उपरांत ऊर्जा का क्षय न हो। इसके कारण औपचारिक व्यवहारों में अनेक कष्ट होते हैं।
 
१९८० में संशोधकों की एक मंडली ने भारत को दो अथवा तीन समय मंडलों में विभाजित करने का सुझाव दिया, परन्तु ये सुझाव हमें ब्रिटिश सरकार द्वारा स्थापित समय मंडलों को अपनाने के बराबर था, इसलिए इस सुझाव को नकारा दिया गया|
२००१ में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ४ सदस्य की समिति स्थापित की जिसका उद्देश्य समय मंडल तथा डेलाइट सेविंग के विषयों को जाँचना था। समिति के निष्कर्ष २००४ में संसद में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री, श्री कपिल सिब्बल, द्वारा प्रस्तुत किये गए जिसमे कपिल सिब्बल ने कहा कि "भारत के समय मंडलों को विभाजित करने की कोई आवश्यकता नहीं है।