"सालासर बालाजी" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  4 वर्ष पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
 
श्रावण शुक्लपक्ष नवमी, संवत् 1811 - शनिवार को एक चमत्कार हुआ। नागौर जिले में असोटाआसोटा गाँव का एक गिन्थाला-जाट किसान अपने खेत को जोत रहा था।
अचानक उसके हल से कोई पथरीली चीज़ टकरायी और एक गूँजती हुई आवाज पैदा हुई। उसने उस जगह की मिट्टी को खोदा और उसे मिट्टी में सनी हुई दो मूर्त्तियाँ मिलीं।
उसकी पत्नी उसके लिए भोजन लेकर वहाँ पहुँची। किसान ने अपनी पत्नी को मूर्त्ति दिखायी। उन्होंने अपनी साड़ी (पोशाक) से मूर्त्ति को साफ़ की।
बेनामी उपयोगकर्ता