"मन्दाकिनी" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
''समान नाम के अन्य लेखों के लिए देखें [[मन्दाकिनी (बहुविकल्पी)]]''
 
[[चित्र:NGC 4414 (NASA-med).jpg|right|300px|thumb|जहाँ तक ज्ञात है, गैलेक्सी ब्रह्माण्ड की सब से बड़ी [[खगोलीय वस्तुएँ]] होती हैं। एनजीसी ४४१४ एक ५५,००० प्रकाश-वर्ष व्यास की गैलेक्सी है]]
 
'''मन्दाकिनी''' या गैलेक्सी, असंख्य [[तारा|तारों]] का समूह है जो स्वच्छ और अँधेरी रात में, [[आकाश]] के बीच से जाते हुए अर्धचक्र के रूप में और झिलमिलाती सी मेखला के समान दिखाई पड़ता है। यह मेखला वस्तुत: एक पूर्ण चक्र का अंग हैं जिसका क्षितिज के नीचे का भाग नहीं दिखाई पड़ता। [[भारत]] में इसे मंदाकिनी, स्वर्णगंगा, स्वर्नदी, सुरनदी, आकाशनदी, देवनदी, नागवीथी, हरिताली आदि भी कहते हैं।