"हंगपन दादा" के अवतरणों में अंतर

39 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: वर्तनी एकरूपता।
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
{{Infobox military person
| honorific_prefix = हवलदार
| name = हंगपन दादा
| honorific_suffix = AC
| birth_date = {{birth date|1979|10|02}}
| birth_place = [[बोरदुरिया, तिरप जिला|बोरदुरिया]], [[अरुणाचल प्रदेश]], [[भारत]]
| death_date = {{Death date |2016|05|27|1979|10|02}}
| death_place = नौगाम, [[जम्मू और कश्मीर]], भारत
| allegiance = {{flag|भारत}}
| branch = [[राष्ट्रीय राइफल्स]]
| serviceyears = 1997-2016
| rank = [[हवलदार]]
| unit = [[असम रेजिमेंट ]]
| awards = [[अशोक चक्र (पुरस्कार)|अशोक चक्र]]
}}
हवलदार '''हंगपन दादा''' (2 अक्टूबर 1979 - 27 मई 2016) [[भारतीय सेना]] के एक जवान थे जो 27 मई 2016 को उत्तरी कश्मीर के शमसाबाड़ी में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए।<ref>{{cite web | url=http://m.navbharattimes.indiatimes.com/photomazza/national-international-photogallery/martyred-hangpan-dada-of-assam-regiment-awarded-ashok-chakra/photomazaashow/53695628.cms | title=अशोक चक्र से सम्मानित हुए शहीद हंगपन दादा | publisher=नवभारत टाइम्स | accessdate=17 अगस्त 2016}}</ref> वीरगति प्राप्त करने से पूर्व उन्होंने 4 हथियारबंद आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा। इस शौर्य के लिए 15 अगस्त 2016 को उन्हें मरणोपरांत [[अशोक चक्र (पदक)|अशोक चक्र]] से सम्मानित किया गया। अशोक चक्र शांतिकाल में दिया जाने वाला भारत का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है।
 
==सैन्य सेवा==
ये 1997 में भारतीय थलसेना की [[असम रेजीमेंट]] के जरिए में शामिल हुए थे। बाद में इन्हें [[35 राष्ट्रीय राइफल्स]] में तैनात किया गया।<ref name = bhaskar />
 
==मृत्यु==
26 मई 2016 को [[जम्मू-कश्मीर]] के कुपवाड़ा जिले के नौगाम सेक्टर में आर्मी ठिकानों का आपसी संपर्क टूट गया था। तब हवलदार हंगपन दादा को उनकी टीम के साथ भाग रहे आतंकवादियों का पीछा करने और उन्हें पकड़ने का जिम्मा सौंपा गया।
इनकी टीम [[एलओसी]] के पास शामशाबारी माउंटेन पर करीब 13000 की फीट की ऊंचाई वाले बर्फीले इलाके में इतनी तेजी से आगे बढ़ी कि उन्होंने आतंकवादियों के बच निकलने का रास्ता रोक दिया। इसी बीच आतंकवादियों ने टीम पर फायरिंग शुरू कर दी। आतंकवादियों की तरफ से हो रही भारी फायरिंग की वजह से इनकी टीम आगे नहीं बढ़ पा रही थी। तब ये जमीन के बल लेटकर और पत्थरों की आड़ में छुपकर अकेले आतंकियों के काफी करीब पहुंच गए।
फिर दो आतंकवादियों को मार गिराया। लेकिन इस गोलीबारी में वे बुरी तरह जख्मी हो गए।
तीसरा आतंकवादी बच निकला और भागने लगा। दादा ने जख्मी होने के बाद भी उसका पीछा किया और उसे पकड़ लिया। इस दौरान दादा की इस आतंकी के साथ हाथापाई भी हुई। लेकिन इन्होंने इसे भी मार गिराया। इस एनकाउंटर में चौथा आतंकी भी मार गिराया गया।<ref name= bhaskar>[https://m.bhaskar.com/news/NAT-NAN-ashok-chakra-awarded-in-republic-day-parade-2017-news-hindi-5513944-PHO.html?seq=1 शहीद हवलदार हंगपन को अशोक चक्र, कश्मीर में अकेले मार गिराए थे 4 आतंकी] - [[दैनिक भास्कर]] - 26 जनवरी 2017</ref>