"सदस्य:Jose.anu.cme/भारतीय वस्त्र" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
 
यूनानी इतिहासकार अर्रिअन् अनुसार:
[[File:Gandhara Buddha (tnm).jpeg|thumb|upright|The [[Gautama Buddha|Buddha]], in Greco-Buddhist style, 1st–2nd century CE, [[Gandhara]](Modern eastern Afghanistan).]]
"लिनन कपड़े, के रूप में भारतीयों का उपयोग नेअर्छुस् पेड़, जिसके बारे में मैंने पहले से ही बात से लिया सन से बना दिया, कहते हैं। और इस सन रंग किसी भी अन्य सन की तुलना में या तो विट है, या काले जा रहा लोगों को सन विट प्रकट करना। वे एक सनी फ्रॉक घुटने और टखने, और जो आंशिक रूप से गोल कंधों फेंक दिया है और आंशिक रूप से सिर दौर लुढ़का एक परिधान के बीच आधे रास्ते तक पहुँचने है। जो बहुत अच्छी तरह से कर रहे हैं भारतीय आइवरी के कान की बाली पहनते हैं। वे सभी नहीं उन्हें पहनने के लिए। भारतीयों ने अपनी दाढ़ी विभिन्न रंगों डाई नेअर्छुस् कहते हैं; कुछ है कि वे प्रकट हो सकता है सफेद विट के रूप में, दूसरों के डार्क ब्लू; दूसरों उन्हें लाल, बैंगनी दूसरों को, और दूसरों है हरी। जो लोग किसी भी रैंक के हैं उन पर गर्मियों में आयोजित छाते है। वे अलंकृत काम किया, सफेद चमड़े के जूते पहनते हैं और अपने जूते के तलवों कई रंग होते हैं और क्रम में है कि वे लम्बे प्रकट हो सकता है उच्च, उठाया।"
 
 
नए व्यापार मार्गों, थलचर और विदेशी, दोनों मध्य एशिया और यूरोप के साथ एक सांस्कृतिक आदान प्रदान बनाया। रोमन लेख कपड़ों की रंगाई और कपास कपड़ा के लिए इंडिगो खरीदा। सिल्क रोड के माध्यम से चीन के साथ व्यापार रेशम वस् त्र उद्योग भारत में शुरू की। चीनी रेशम व्यापार में एकाधिकार था और उसकी उत्पादन प्रक्रिया एक व्यापार गुप्त रखा। जब वह खोतोन् (वर्तमान दिन झिंजियांग) के राजा से शादी करने के लिए भेजा गया था, जब पौराणिक कथा के अनुसार, एक चीनी राजकुमारी [[शहतूत]] के बीज और रेशम में उसके साफ़ा तस्करी, हालांकि, इस एकाधिकार समाप्त हो गया। वहाँ से, रेशम का उत्पादन एशिया भर में फैल गया, और विज्ञापन द्वारा १४०, अभ्यास भारत में स्थापित किया गया था। लोक प्रशासन, अर्थशास्त्र ग्रन्थ के आसपास लिखा तीसरी सदी ई. पू., पर चाणक्य के ग्रंथ मानदंडों के बाद रेशम बुनाई में संक्षेप में वर्णन करता है।
 
[[File:British Museum silk princess painting.jpg|thumb|centre|700px|Painting on wooden panel discovered by Aurel Stein in [[Dandan Oilik]], depicting the legend of the princess who hid silk worm eggs in her headdress to smuggle them out of China to the Kingdom of Khotan.]]
 
बुनाई तकनीक की एक किस्म प्राचीन भारत, जिनमें से कई आज तक जीवित रहने में कार्यरत थे। रेशम और कपास विभिन्न डिजाइन और रूपांकनों, में अपनी विशिष्ट शैली और तकनीक के विकास में प्रत्येक क्षेत्र बुने जाते थे। इनमें प्रसिद्ध बुनाई शैलियों जम्दनि, [[वाराणसी]], बुतिदर और इल्कल साडी के कसिक वस्त्र थे। सिल्क के रंगीन गोल्ड और सिल्वर धागे से बुने जाते थे और फारसी डिजाइन द्वारा गहराई से प्रभावित थे। मुगलों की कला, और पैस्ले वृद्धि में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और लतीफा बुति मुगल प्रभाव के ठीक उदाहरण हैं।
121

सम्पादन