"सदस्य:Jose.anu.cme/भारतीय वस्त्र" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
मुख्य लेख: भारत-पश्चिमी वस्त्र
 
पश्चिमी फैशन की भारतीय पोशाक, अवशोषित तत्वों था के रूप में १९६० के दशक और १९७० के दशक के दौरान, एक ही समय में भारतीय फैशन भी सक्रिय रूप से पश्चिमी पोशाक के तत्वों को अवशोषित करने के लिए शुरू किया। उनके काम को प्रभावित करने के लिए पश्चिम भारतीय डिजाइनरों की अनुमति के रूप में 1980१९८० के दशक और 1990१९९० के दशक के दौरान, पश्चिमी डिजाइनर उत्साहपूर्वक परंपरागत भारतीय शिल्प, वस्त्र और तकनीकों अपने काम एक ही समय में शामिल किया। 21२१ वीं सदी के मोड़ से, ठेठ शहरी भारतीय जनसंख्या के लिए कपड़ों की एक अनूठी शैली बनाना दोनों पश्चिमी और भारतीय कपड़े अंतर्मिश्रण था। महिलाओं और अधिक आरामदायक कपड़ों और अंतरराष्ट्रीय फैशन कपड़ों के पश्चिमी और भारतीय शैलियों के एक संलयन के लिए नेतृत्व करने के लिए जोखिम पहनना शुरू कर दिया। आर्थिक [[उदारीकरण]] के बाद और अधिक रोजगार खोल दिया, और औपचारिक पहनने के लिए एक मांग बनाया। महिलाओं के काम करने के लिए या तो पश्चिमी या पारंपरिक पोशाक पहनने के लिए पसंद है, जबकि ज्यादातर भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनियों का कहना है कि पुरुष कर्मचारी पश्चिमी पोशाक पहनने।
 
भारत में आजकल महिलाओं के कपड़ों से मिलकर बनता है जैसे गाउन, पैंट, शर्ट और टॉप दोनों औपचारिक और अनौपचारिक पहनने का। कुर्ती जैसे पारंपरिक भारतीय कपड़े आरामदायक पोशाक का एक हिस्सा जीन्स के साथ संयुक्त किया गया है। भारत में फैशन डिजाइनर समकालीन भारतीय फैशन की एक अनूठी शैली बनाने के लिए पारंपरिक पश्चिमी पहनने में भारतीय पारंपरिक डिजाइनों के कई तत्वों के मिश्रित है।
<ref>https://en.wikipedia.org/wiki/Clothing_in_India<ref>
<ref>http://www.culturalindia.net/indian-clothing/sari.html<ref>
<ref>http://www.shsu.edu/~his_ncp/Indica.html<ref>
<ref>http://archive.indianexpress.com/news/from-baseball-caps-to-phetas/475803/0<ref>
<ref>http://www.indianmirror.com/culture/clothing/lungi.html<ref>
121

सम्पादन