"शाकटायन" के अवतरणों में अंतर

22 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{आधार}}
'''शाकटायन''' नाम के दो व्यक्ति हुए हैं, एक [[वैदिक काल]] के अन्तिम चरण के [[वैयाकरण]], तथा दूसरे ९वीं शताब्दी के [[अमोघवर्ष नृपतुंग]] के शासनकाल के वैयाकरन।वैयाकरण।
 
[[वैदिक काल]] के अन्तिम चरण (८वीं ईसापूर्व) के शाकटायन, [[संस्कृत व्याकरण]] के रचयिता है हैं। उनकी कृतियाँ अब उपलब्ध नहीं हैं किन्तु [[यक्ष]], [[पाणिनि]] एवं अन्य [[संस्कृत]] [[वैयाकरण|वैयाकरणों]] ने उनके विचारों का सन्दर्भ दिया है।