"अष्टछाप": अवतरणों में अंतर

81 बाइट्स हटाए गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन References removed
'''अष्टछाप''', महाप्रभु श्री [[वल्लभाचार्य]] जी एवं उनके पुत्र श्री [[विट्ठलनाथ]] जी द्वारा संस्थापित ८ भक्तिकालीन कवियों का एक समूह था, जिन्होंने अपने विभिन्न पद एवं कीर्तनों के माध्यम से भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का गुणगान किया।<ref>हिंदी साहित्य का दूसरा इतिहास, [[बच्चन सिंह|डॉ॰ बच्चन सिंह]], राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्ली, २00२, पृष्ठ- १२८, ISBN: 81-7119-785-X</ref> अष्टछापपृष्ठअष्टछाप की स्थापना १५६५ ई० में हुई थी।<ref>हिन्दी साहि्त्य का इतिहास, सम्पादक [[डॉ॰ नगेन्द्र|डॉ॰ नगेन्द्र]], नेशनल पब्लिशंग हाउस, नई दिल्ली, द्वितीय संस्करण १९७६ ई०संस्क, पृष्ठ २१७</ref>
 
== अष्टछाप कवि ==
गुमनाम सदस्य