प्रियरंजन

प्रियरंजन 5 मार्च 2017 से सदस्य हैं
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
No edit summary
सुमति एक सुन्दर परिणाम,सुगति को प्राप्त हुआ मतभेद|
द्वेष के सभी पहल को त्याग ,प्रकट की भूतकाल पर खेद|
सुगति को प्राप्त हुआ मतभेद|
पुनः व्यापार हुआ प्रारम्भ ,रहेंगे मार्ग नही एकान्त मिलकर|
द्वेष के सभी पहल को त्याग ,
अब दोनो नगरें,करेंगे हर दिन का मधुरान्त|
प्रकट की भूतकाल पर खेद|
मगध से बीस मील पश्चिम,घने जंगलों के अतिपार|
पुनः व्यापार हुआ प्रारम्भ ,
नगर थे दो विकसित समृद्ध,अलग ही था उनका संसार|
रहेंगे मार्ग नही एकान्त मिलकर|
प्रकृति का वह सुन्दर विस्तार,असम्भव द्व्तीय रूप अन्यत्र|
अब दोनो नगरें,
विजय सा लहराते किसलय,अवनी का शुभ सर्वोचित वस्त्र..... . |||| .
करेंगे हर दिन का मधुरान्त|
मगध से बीस मील पश्चिम,
घने जंगलों के अतिपार|
नगर थे दो विकसित समृद्ध,
अलग ही था उनका संसार|
प्रकृति का वह सुन्दर विस्तार,
असम्भव द्व्तीय रूप अन्यत्र|
विजय सा लहराते किसलय,
अवनी का शुभ सर्वोचित वस्त्र..... . |||| .
95

सम्पादन