"१८६२ अपोलो": अवतरणों में अंतर

328 बाइट्स जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
(नया पृष्ठ: thumb|280px|१८६२ अपोलो '''१८६२ अपोलो''' (1862 Apollo) एक पत्थरीला...)
 
No edit summary
[[File:1862Apollo (Lightcurve Inversion).png|thumb|280px|१८६२ अपोलो]]
'''१८६२ अपोलो''' (1862 Apollo) एक पत्थरीला [[क्षुद्रग्रह]] (ऐस्टेरोयड) है जो १.५ किमी का [[व्यास]] रखता है और एक [[पृथ्वी-समीप वस्तु]] है। इसे सन् १९३२ में कार्ल रायनमुथ (Karl Reinmuth) नामक खगोलशास्त्री ने ढूंढ निकाला था, लेकिन अपनी खोज के बाद यह [[खोया हीन ग्रह|खोया गया]] और फिर ४१ सालों बाद १९७३ में ही जाकर फिर मिला। यह [[अपोलो क्षुद्रग्रह]] नामक क्षुद्रग्रहों की एक श्रेणी का पहला सदस्य है जिसका नाम इसी के ऊपर रखा गया था। यह ऐसे पृथ्वी-समीपी क्षुद्रग्रह हैं जिनके मार्ग [[पृथ्वी]] की [[कक्षा (भौतिकी)|कक्षा]] पार करते हैं।<ref>"[http://ssd.jpl.nasa.gov/sbdb.cgi?sstr=2001862 JPL Small-Body Database Browser: 1862 Apollo (1932 HA)]" (2015-03-16 last obs.). Jet Propulsion Laboratory. Retrieved 20 April 2016.</ref><ref>Gehrels, Tom (1994). Hazards Due to Comets and Asteroids. Tucson: University of Arizona Press. pp. 540–543. ISBN 0816515050.</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==