"शून्य से भाजन" के अवतरणों में अंतर

620 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
[[गणित]] में जब किसी संख्या को [[शून्य]] से [[भाजन|भाग]] करते हैं तो इसे '''शून्य से भाजन''' (division by zero) कहते हैं। इस भाजन में भाजक (divisor) शून्य होता है। ऐसे भाजन को a/0 लिखा जा सकता है जहाँ a [[भाज्य]] (dividend (अंश)) है। सामान्य अंकगणित में यह व्यंजक अर्थहीन है क्योंकि कोई ऐसी संख्या नहीं है जिसको 0 से गुणा करने पर a मिलता है (यहाँ माना गया है कि a≠0)। अतः शून्य से भाजन अपरिभाषित है। चूँकि किसी भी संख्या में शून्य का गुणा करने पर परिणाम शून्य ही आता है, इस कारण 0/0 का भी कोई निश्चित मान नहीं है।
 
==इतिहास==
[[ब्रह्मगुप्त]] (598-668) द्वारा रचित [[ब्रह्मस्फुटसिद्धान्त]] वह सबसे प्राचीन ग्रन्थ है जिसमें [[शून्य]] तथा शून्य से सम्बन्धित संक्रियाएं (ऑपरेशन्स) वर्णित हैं। ब्रह्मगुप्त ने 0/0 = 0 बताया है किन्तु a/0 (जहाँ a ≠ 0) के बारे में कुछ नहीं कहा है।
 
==इन्हें भी देखें==