"वसंत" के अवतरणों में अंतर

10 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में (2), मै → मैं (2)
छो (बॉट: आंशिक लिप्यंतरण)
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में (2), मै → मैं (2))
'''वसंत''' उत्तर भारत तथा समीपवर्ती देशों की छह ऋतुओं{{Ref_label|ऋतु|क|none}} में से एक ऋतु है, जो फरवरी मार्च और अप्रैल के मध्य इस क्षेत्र में अपना सौंदर्य बिखेरती है। ऐसा माना गया है कि माघ महीने की शुक्ल पंचमी से वसंत ऋतु का आरंभ होता है।<ref>{{cite web |url= http://hindi.webdunia.com/religion/occasion/others/0802/09/1080209020_1.htm|title= ऋतुराज वसंत |accessmonthday=[[७ फरवरी]]|accessyear=[[२००८]]|format= एचटीएम|publisher= वेबदुनिया|language=}}</ref> फाल्गुन और चैत्र मास वसंत ऋतु के माने गए हैं। फाल्गुन वर्ष का अंतिम मास है और चैत्र पहला। इस प्रकार हिंदू पंचांग के वर्ष का अंत और प्रारंभ वसंत में ही होता है। इस ऋतु के आने पर सर्दी कम हो जाती है। मौसम सुहावना हो जाता है। पेड़ों में नए पत्ते आने लगते हैं। आम बौरों से लद जाते हैं और खेत सरसों के फूलों से भरे पीले दिखाई देते हैं अतः राग रंग और उत्सव मनाने के लिए यह ऋतु सर्वश्रेष्ठ मानी गई है<ref>{{cite web |url=http://www.bbc.co.uk/hindi/entertainment/story/2004/02/040213_pakistan_kite.shtml|title= वसंत पर पतंग की उड़ान|accessmonthday=[[७ फरवरी]]|accessyear=[[२००८]]|format= एसएचटीएमएल|publisher= बीबीसी|language=}}</ref> और इसे ऋतुराज कहा गया है।<ref>{{cite web |url=http://www.amarujala.com/dharam/default1.asp?foldername=20060131&sid=1|title= वसंत पंचमी पर विशेष|accessmonthday=[[७ फरवरी]]|accessyear=[[२००८]]|format= एएसपी|publisher= अमर उजाला|language=}}</ref>
 
'''वसन्त ऋतु''' वर्ष की एक ऋतु है जिसमें वातावरण का तापमान प्रायः सुखद रहता है। [[भारत]] में यह फरवरी से मार्च तक होती है। अन्य देशों में यह अलग समयों पर हो सकती है। इस ऋतु की विशेष्ता है मौसम का गरम होना, फूलो का खिलना, पौधो का हरा भरा होना और बर्फ का पिघलना। भारत का एक मुख्य त्योहार है होली जो वसन्त ऋतु मेमें मनाया जाता है। यह एक [[:en:Temperate|सन्तुलित (Temperate)]] मौसम है। इस मौसम मेमें चारो ओर हरियलि होति है। पेडो पर नये पत्ते उग्ते है। इस रितु मैमैं कइ लोग उद्यनो तालाबो आदि मैमैं घुम्ने जाते है।
 
[[चित्र:Vasant.jpg|thumb|left|वसंत के रागरंग]]'पौराणिक कथाओं के अनुसार वसंत को कामदेव का पुत्र कहा गया है। कवि देव ने वसंत ऋतु का वर्णन करते हुए कहा है कि रूप व सौंदर्य के देवता कामदेव के घर पुत्रोत्पत्ति का समाचार पाते ही प्रकृति झूम उठती है। पेड़ों उसके लिए नव पल्लव का पालना डालते है, फूल वस्त्र पहनाते हैं पवन झुलाती है और कोयल उसे गीत सुनाकर बहलाती है।{{Ref_label|बिहारी|ख|none}} भगवान कृष्ण ने गीता में कहा है ऋतुओं में मैं वसंत हूँ।{{Ref_label|गीता|ग|none}}
 
वसंत ऋतु में [[वसंत पंचमी]], [[शिवरात्रि]] तथा [[होली]] नामक पर्व मनाए जाते हैं। भारतीय संगीत साहित्य और कला में इसे महत्वपूर्ण स्थान है। संगीत में एक विशेष राग वसंत के नाम पर बनाया गया है जिसे [[राग बसंत]] कहते हैं। वसंत राग पर चित्र भी बनाए गए हैं।
डारि द्रुम पलना बिछौना नव पल्लव के
सुमन झंगूला सौहै तन छवि भारी दै
पवन झुलावै, केकी कीर बतरावै देव
 
प्रह्लादश्चास्मि दैत्यानां कालः कलयतामहम्।