"पुष्पक विमान" के अवतरणों में अंतर

37 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
 
== विमानक्षेत्र ==
कई अध्ययन एवं शोधकर्त्ताओं के अनुसार, रावण की लंका में इस पुष्पक विमान के अलावा भी कई प्रकार के विमाविमान थे, जिनका प्रयोग वह अपने राज्य के अलग-अलग भागों में तथा राज्य के बाहर आवागमन हेत्तुहेतु किया करता था। इस तथ्य की पुष्टि वाल्मिकी रामायण के श्लोक द्वारा भी होती है।है, जिसमें लंका विजय उपरान्त राम ने पुष्पक विमान में उड़ते हुए लक्ष्मण से यह कहा था कि कई विमानों के साथ, धरती पर लंका चमक रही है। यदि यह विष्णु की का वैकुंठधाम होता तो यह पूरी तरह से सफेद बादलों से घिरा होता।<ref name="जगत"/>
 
इन विमाज़ों के उड़ज़े व अवत्तरण हेतु लंका में छह विमानक्षेत्र थे। ये इस प्रकार से हैं:
* दंडू मोनारा विमान: यह विमान रावण के द्वारा प्रयोग किया जाता था। स्थानीय सिंहली भाषा में मोनारा का अर्थ मोर से है, तो दंडू मोनारा का अर्थ मोर जैसा उड़ने वाला।
 
* वारियापोला (मेतेले): वारियापोला के कई शब्दों का सम्धिसंंधि विच्छेद करज़े पर वथा-रि-या-पोला बनता है। इसका अर्थ है, ऐसा स्थान जहां से विमान को उड़ज़े और अवत्तरण करज़े, दोनों की सुविधा हो। वर्तमान में यहां मेतेले राजपक्षा अज़्तर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र उपस्थित है।
 
* गुरुलुपोथा (महीयानगाना): सिंहली भाषा के इस शब्द को पक्षियों के हिस्से कहा जाता है। इस विमानक्षेत्र में विमान घर (एयरक्राफ्ट हैंगर) एवं मरम्मत केन्द्र हुआ करता था।
* दंडू मोनारा विमान: यह विमान रावण द्वारा प्रयोग में लाया जाता था। स्थानीय सिंहली भाषा में मोनारा का अर्थ मोर से है। दंडू मोनारा का अर्थ मोर जैसा उड़ने वाला।<ref name="जगत"/>
 
==सन्दर्भ==