"पुष्पक विमान" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
|AKA =
|Image_Name = Pushpakviman.jpg
|image_size = 200300
|Image_Caption = श्रीराम, सीता एवं अन्य सहित पुष्पक विमान पर आरूढ
|Mythology = [[रामायण]]
 
==विशेष गुण==
[[File:Sita Abduction.jpg|thumb|300px|[[मोढेरा]] स्थित सूर्य मंदिर के स्तम्भ में रावण द्वारा पुष्पक विमान से सीता हरण का दृश्य]]
 
इस विमान में बहुत सी विशेषताएं थीं, जैसे इसका आकार आवश्यकतानुसार छोटा या बड़ा किया जा सकता था। कहीं भी आवागमन हेतु इसे अपने मन की गति से असीमित चलाया जा सकता था। यह नभचर वाहन होने के साथ ही भूमि पर भी चल सकता था। इस विमान में स्वामी की इच्छानुसार गति के साथ ही बड़ी संख्या में लोगों के सवार होने की क्षमता भी थी।<ref name="अवश्य"/> यह विमान यात्रियों की संख्या और वायु के घनत्व के हिसाब से स्वमेव अपना आकार छोटा या बड़ा कर सकता था।<ref name="ज्ञान">{{cite web |url=http://www.gyanpanti.com/secrets-of-pushpak-vimana-in-hindi/
|title= पुष्पक विमान के अदभुत रहस्य
 
==ग्रन्थों में उल्लेख==
 
[[File:Sita Abduction.jpg|thumb|300px|[[मोढेरा]] स्थित सूर्य मंदिर के स्तम्भ में रावण द्वारा पुष्पक विमान से सीता हरण का दृश्य]]
===विमान निर्माण===
[[ऋगवेद]] में लगभग २०० से अधिक बार विमानों के बारे में उल्लेख दिया है। इसमें कई प्रकार के विमान जैसे तिमंजिला, [[त्रिभुज]] आकार के एवं तीन पहिये वाले, आदि विमानों का उल्लेख है। इनमें से कई विमानों का निर्माण [[अश्विनी कुमार|अश्विनी कुमारों]] ने किया था, जो दो जुड़वां देव थे, एवं उन्हें वैज्ञानिक का दर्जा प्राप्त था। इन में साधारणतया तीन यात्री जा सकते थे एवं उन के दोनो ओर पंख होते थे। इन उपकरणों के निर्माण में मुख्यतः तीन धातुओं- [[स्वर्ण]], [[रजत]] तथा [[लौह]] का प्रयोग किया गया था। वेदों में विमानों के कई आकार-प्रकार उल्लेखित किये गये हैं। उदाहरणतया अग्निहोत्र विमान में दो ऊर्जा स्रोत (ईंजन) तथा हस्ति विमान में दो से अधिक स्रोत होते थे। किसी विमान का रुप व आकार आज के [[किंगफिशर]] पक्षी के अनुरूप था।<ref name="ट्री"/> एक जलयान भी होता था जो वायु तथा जल दोनो में चल सकता था।<ref>([[ऋगवेद]] ६.५८.०३)</ref> कारा नामक विमान भी वायु तथा जल दोनो तलों में चल सकता था। <ref>(ऋग वेद 9.14.1)</ref> त्रिताला नामक विमान तिमंजिला था।<ref>(ऋग वेद 3.14.1)</ref> त्रिचक्र रथ नामक तीन पहियों वाला यह विमान आकाश में उड सकता था।<ref>(ऋग वेद 4.36.1)</ref> किसी रथ के जैसा प्कीरतीत होने वाला विमान वाष्प अथवा वायु की शक्ति से चलता था।<ref>(ऋग वेद 5.41.6)</ref> विद्युत-रथ नामक विमान विद्युत की शक्ति से चलता था।<ref>(ऋग वेद 3.14.1)</ref>