"रंगमंच" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
106.222.12.181 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr. shailendrakumar sharma के आखिरी अवतरण क...
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
छो (106.222.12.181 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr. shailendrakumar sharma के आखिरी अवतरण क...)
'''रंगमंच''' (थिएटर) वह स्थान है जहाँ [[नृत्य]], [[नाटक]], खेल आदि हों। रंगमंच शब्द रंग और मंच दो शब्दों के मिलने से बना है। रंग इसलिए प्रयुक्त हुआ है कि दृश्य को आकर्षक बनाने के लिए दीवारों, छतों और पर्दों पर विविध प्रकार की चित्रकारी की जाती है और अभिनेताओं की वेशभूषा तथा सज्जा में भी विविध रंगों का प्रयोग होता है और मंच इसलिए प्रयुक्त हुआ है कि दर्शकों की सुविधा के लिए रंगमंच का तल फर्श से कुछ ऊँचा रहता है। दर्शकों के बैठने के स्थान को प्रेक्षागार और रंगमंच सहित समूचे भवन को प्रेक्षागृह, रंगशाला, या नाट्यशाला (या नृत्यशाला) कहते हैं। पश्चिमी देशों में इसे '''थिएटर''' या '''ऑपेरा''' नाम दिया जाता है।
 
== आविर्भाव ==
ऐसा समझा जाता है कि नाट्यकला का विकास सर्वप्रथम [[भारत]] में ही हुआ। [[ऋग्वेद]] के कतिपय सूत्रों में यम और यमी, [[पुरुरवा]] और [[उर्वशी]] आदि के कुछ संवाद हैं। इन संवादों में लोग नाटक के विकास का चिह्न पाते हैं। अनुमान किया जाता है कि इन्हीं संवादों से प्रेरणा ग्रहण कर लागों ने नाटक की रचना की और नाट्यकला का विकास हुआ। यथासमय [[भरतमुनि]] ने उसे शास्त्रीय रूप दिया। भरत मुनि ने अपने [[नाट्यशास्त्र]] में नाटकों के विकास की प्रक्रिया को इस प्रकार व्यक्त किया है:
: ''नाट्यकला की उत्पत्ति दैवी है, अर्थात् दु:खरहित सत्ययुग बीत जाने पर त्रेतायुग के आरंभ में देवताओं ने स्रष्टा ब्रह्मा से मनोरंजन का कोई ऐसा साधन उत्पन्न करने की प्रार्थना की जिससे देवता लोग अपना दु:ख भूल सकें और आनंद प्राप्त कर सकें। फलत: उन्होंने ऋग्वेद से कथोपकथन, सामवेद से गायन, यजुर्वेद से अभिनय और अथर्ववेद से रस लेकर, नाटक का निर्माण किया। विश्वकर्मा ने रंगमंच बनाया'' आदि आदि।