"प्राकृत" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
2405:204:3105:BE37:77BA:C6B8:774C:F9A6 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3440279 को पूर्व
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(2405:204:3105:BE37:77BA:C6B8:774C:F9A6 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3440279 को पूर्व)
भारतीय आर्यभाषा के मध्ययुग में जो अनेक प्रादेशिक भाषाएँ विकसित हुई उनका सामान्य नाम '''प्राकृत''' है और उन भाषाओं में जो ग्रंथ रचे गए उन सबको समुच्चय रूप से [[प्राकृत साहित्य]] कहा जाता है। विकास की दृष्टि से भाषावैज्ञानिकों ने [[भारत]] में आर्यभाषा के तीन स्तर नियत किए हैं - प्राचीन, मध्यकालीन और अर्वाचीन। प्राचीन स्तर की भाषाएँ [[वैदिक संस्कृत]] और [[संस्कृत]] हैं, जिनके विकास का काल अनुमानत: ई. पू. 2000 से ई. पू. 600 तक माना जाता है। मध्ययुगीन भाषाएँ हैं - [[मागधी]], [[अर्धमागधी]], [[शौरसेनी]], [[पैशाची भाषा]], [[महाराष्ट्री]] और [[अपभ्रंश]]। इनका विकासकाल ई. पूर्व 600 ई. 1000 तक पाया जाता है। इसके पश्चात्, [[हिंदी]], [[गुजराती]], [[मराठी]], [[बँगला]], आदि उत्तर भारत की आधुनिक आर्यभाषाओं का विकास प्रारंभ हुआ जो आज तक चला आ रहा है।
 
== मध्ययुगीन भाषाओं '''(प्राकृत)''' की मुख्य विशेषताएँ ==
9,893

सम्पादन