"वरंगल" के अवतरणों में अंतर

3,576 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
{{Infobox settlement
{{स्रोतहीन|date=अगस्त 2014}}
| नगरname का नाम = वरंगल
{{Infobox Indian Jurisdiction |
| native_name = {{lang|te|వరంగల్}}<br />
| नगर का नाम = वरंगल
{{lang|ur|{{Nastaliq|ورنگل}}}}
| प्रकार = शहर
| native_name_lang = te
| latd =
| settlement_type = [[नगर]]
| longd=
| image_skyline = WarangalMontage.jpg
| प्रदेश = तेलंगाना
| जिलाimage_alt = =
| image_caption = ऊपर से दक्षिणावर्त: गोविन्दराजुल पहाड़ी से वरंगल का दृष्य, [[काकतीय विश्वविद्यालय]], [[वरंगल दुर्ग]], [[सहस्र स्तम्भ मंदिर]], [[काकतीय कला तोरणम्]]
| शासक पद = [[महापौर]]
| map_alt =
| शासक का नाम =
| map_caption =
| शासक पद 2 = [[सांसद]]
| pushpin_map = India Telangana#India
| शासक का नाम 2 =
| pushpin_label_position = right
| ऊँचाई =
| pushpin_map_alt =
| जनगणना का वर्ष = 2001
| pushpin_map_caption =
| जनगणना स्तर =
| coordinates = {{coord|18.0|N|79.58|E|display=inline,title}}
| जनसंख्या =
| घनत्वsubdivision_type = Other Names
| subdivision_name = Orugallu<br />Ekasila Nagaram<br />Tri-City
| क्षेत्रफल =
| subdivision_type1 = Country
| दूरभाष कोड = 91-
| subdivision_type2 = [[States and territories of India|State]]
| पिनकोड =
| subdivision_type3 = [[Region]]
| वाहन रेजिस्ट्रेशन कोड =
| subdivision_type4 = [[List of districts of India|District]]
| unlocode =
| subdivision_name1 = [[India]]
| वेबसाइट =
| subdivision_name2 = [[Telangana]]
| skyline =
| subdivision_name3 = [[South India]], [[Deccan]]
| skyline_caption =
| subdivision_name4 = [[Warangal Urban district|Warangal Urban]]<br>[[Warangal Rural district|Warangal Rural]]
| टिप्पणियाँ = |
| established_title = <!-- Established -->
| established_date = 12th century
| founder =
| named_for =
| government_type = [[Mayor-council]]
| governing_body = [[Greater Warangal Municipal Corporation|GWMC]]<br>[[Kakatiya Urban Development Authority|KUDA]]
| leader_title1 = [[Mayor]]
| leader_name1 = Nannapaneni Narender
| unit_pref = Metric
| area_footnotes = <ref name="profile">{{cite web|title=Physical details of GWMC|url=http://gwmc.gov.in/attachments/B2016-17.pdf|website=gwmc.gov..in|accessdate=5 April 2017|page=3|format=PDF}}</ref>
| area_total_km2 = 406.87
| area_rank =
| elevation_footnotes =
| elevation_m = 302
| population_total = 811844
| population_as_of = 2011
| population_footnotes = <ref name="profile" />
| population_density_km2 = auto
| population_metro =
|population_rank = [[List of most populous cities in India|63rd (India)]]<br />[[List of cities in Telangana by population|2nd (Telangana)]]
| population_demonym = Warangalite
| demographics_type1 = Languages
| demographics1_title1 = Official
| timezone1 = [[Indian Standard Time|IST]]
| utc_offset1 = +5:30
| postal_code_type = [[Postal Index Number|PIN]]
| postal_code = 506001 to 506019 <ref>http://www.indiapost.gov.in/imo_offices.aspx</ref>
| area_code = [[Telephone numbers in India|+91–870]]
| area_code_type = Telephone code
| registration_plate = TS–03<ref>{{cite web|title=District Codes|url=http://www.transport.telangana.gov.in/html/registration-districtcodes.html|publisher=Government of Telangana Transport Department|accessdate=4 September 2014}}</ref>
| website = {{URL|http://www.gwmc.gov.in/}}
| footnotes =
| leader_title2 = [[Municipal Commissioner]]
| leader_name2 = Shruti Ojha<ref>{{cite news|title=Municipal commissioner |url=http://www.thehansindia.com/posts/index/Telangana/2016-12-03/Shruti-Ojha-to-take-charge-as-GWMC-chief-/266844}}</ref>
| leader_title3 = [[Commissioner of Police]]
| leader_name3 = Sudheer Babu<ref>{{cite news|title=Commissioner of Police |url=http://timesofindia.indiatimes.com/city/hyderabad/Sudheer-Babu-first-Warangal-city-police-commissioner/articleshow/47547331.cms|location=Warangal}}</ref>
| demographics1_info1 = [[Telugu language|Telugu]], [[Urdu]]
| blank1_name = Ethnicity
| blank1_info = [[Indian people|Indian]]
}}
'''वरंगल''' शहर, उत्तरी [[तेलंगाना]] राज्य,का दक्षिण–पूर्वप्रमुख [[भारत]] में स्थितनगर है। यह चेन्नई–काज़िपेट्ट–दिल्ली[[चेन्नई]]–[[काज़िपेट्ट]]–[[दिल्ली]] राजमार्ग पर स्थित है। वरंगल 12वीं सदी में उत्कर्ष पर रहे आन्ध्र प्रदेश के काकतीयों की प्राचीन राजधानी था। वर्तमान शहर के दक्षिण–पूर्व में स्थित [[वरंगल क़िलादुर्ग]] कभी दो दीवारों से घिरा हुआ था।था जिनमें भीतरी दीवार के पत्थर के द्वार (संचार) और बाहरी दीवार के अवशेष मौजूद हैं। 1162 में निर्मित 1000 स्तम्भों वाला [[मन्दिर]] शहर के भीतर ही स्थित है।
 
== उत्पत्ति ==
वरंगल या वरंकल–तेलगुवरंकल, [[तेलगु]] शब्द 'ओरुकल' या ओरुगल्सु का [[अपभ्रंश]] है, जिसका अर्थ है 'एक शिला'। इससे तात्पर्य उस विशाल अकेली चट्टान से है जिस पर ककातीय नरेशों के समय का बनवाया हुआ दुर्ग अवस्थित है। कुछ अभिलेखों से ज्ञात होता है कि संस्कृत में इस स्थान के ये नाम तथा पर्याय भी प्रचलित थे–एकोपल, एकशिला, एकोपलपुरी या एकोपलपुरम्। रघुनाथ भास्कर के कोश में एकशिलानगर, एकशालिगर, एकशिलापाटन–ये नाम भी मिलते हैं। टालमी द्वारा उल्लिखित कोरुनकुला वरंगल ही जान पड़ता है।
 
== इतिहास ==
11वीं शती ई. से 13वीं शती ई. तक वरंगल की गिनती दक्षिण के प्रमुख नगरों में थी। इस काल में ककातीय वंश के राजाओं की राजधानी यहाँ रही। इन्होंने वरंगल दुर्ग, हनमकोंडा में सहस्र स्तम्भों वाला मन्दिर और पालमपेट का रामप्पा–मन्दिर बनवाए थे। वरंगल का क़िला 1199 ई. में बनना प्रारम्भ हुआ था।
 
ककातीय राजा गणपति ने इसकी नींव डाली और 1261 ई. में रुद्रमा देवी ने इसे पूरा करवाया था। क़िले के बीच में स्थित एक विशाल मन्दिर के खण्डहर मिले हैं, जिसके चारों ओर चार तोरण द्वार थे। साँची के स्तूप के तोरणों के समान ही इन पर भी उत्कृष्ट मूर्तिकारी का प्रदर्शन किया गया है। क़िले की दो भित्तियाँ हैं। अन्दर की भित्ति पत्थर की और बाहर की मिट्टी की बनी है। बाहरी दीवार 72 फुट चौड़ी और 56 फुट गहरी खाई से घिरी है। हनमकोंडा से 6 मील दक्षिण की ओर एक तीसरी दीवार के चिह्न भी मिलते हैं। एक इतिहास लेखक के अनुसार परकोटे की परिधि तीस मील की थी। जिसका उदाहरण भारत में अन्यत्र नहीं है। क़िले के अन्दर अगणित मूर्तियाँ, अलंकृत प्रस्तर-खंड, अभिलेख आदि प्राप्त हुए हैं। जो शितावख़ाँ के दरबार भवन में संगृहीत हैं। इसके अतिरिक्त अनेक छोटे बड़े मन्दिर भी यहाँ स्थित हैं। अलंकृत तोरणों के भीतर नरसिंह स्वामी, पद्याक्षी और गोविन्द राजुलुस्वामी के प्राचीन मन्दिर हैं। इनमें से अन्तिम एक ऊँची पहाड़ी के शिखर पर अवस्थित है। यहाँ से दूर-दूर तक का मनोरम दृश्य दिखलाई देता है।
 
12वीं 13वीं शती का एक विशाल मन्दिर भी यहाँ से कुछ दूर पर है, जिसके आँगन की दीवार दुहरी तथा असाधारण रूप से स्थूल है। यह विशेषता ककातीय शैली के अनुरूप ही है। इसकी बाहरी दीवार में तीन प्रवेशद्वार हैं, जो वरंगल के क़िले के मुख्य मन्दिर के तोरणों की भाँति ही हैं। यहाँ से दो ककातीय अभिलेख प्राप्त हुए हैं–पहला सातफुट लम्बी वेदी पर और दूसरा एक तड़ाग के बाँध पर अंकित है। वरंगल पर प्रारम्भ में दक्षिण के प्रसिद्ध आन्ध्र वंशीय नरेशों का अधिकार था। तत्पश्चात् मध्यकाल में चालुक्यों और ककातीयों का शासन रहा। ककातीय वंश का सर्वप्रथम प्रतापशाली राजा गणपति था जो 1199 ई. में गद्दी पर बैठा। गणपति का राज्य गोंडवाना से काँची तक और बंगाल की खाड़ी से बीदर और हैदराबाद तक फैला हुआ था। इसी ने पहली बार वरंगल में अपनी राजधानी बनाई और यहाँ के प्रसिद्ध दुर्ग की नींव डाली। गणपति के पश्चात् उसकी पुत्री रुद्रमा देवी ने 1260 से 1296 ई. तक राज्य किया। इसी के शासन काल में इटली का प्रसिद्ध पर्यटक मार्कोपोलो मोटुपल्ली के बंदरगाह पर उतर कर आन्ध्र प्रदेश में आया था। मार्कोपोलो ने वरंगल का वर्णन करते हुए लिखा है कि यहाँ पर संसार का सबसे बारीक सूती कपड़ा (मलमल) तैयार होता है। जो मकड़ी के जाले के समान दिखाई देता है। संसार में कोई ऐसा राजा या रानी नहीं है जो इस आश्चर्यजनक कपड़े के वस्त्र पहन कर स्वयं को गौरवान्वित न माने।
 
 
== जनसंख्या ==
2001 की गणना के अनुसार वरंगल शहर की जनसंख्या 5,28,570 है। और वरंगल ज़िलेजिले की कुल जनसंख्या 32,31,174 है।
 
== सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
==इन्हें भी देखें==
*[[काकतीय वंश]]
*[[काकतीय दुर्ग]]
*[[काकतीय विश्वविद्यालय]]
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/warangal-part-1/ वरंगल भाग-१]
*[http://www.newscast-pratyaksha.com/hindi/warangal-part-2 वरंगल भाग- २]
 
{{तेलंगाना}}