"धर्मकीर्ति": अवतरणों में अंतर

4 बाइट्स जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
'''धर्मकीर्ति''' (७वीं सती) [[भारत]] के विद्वान एवं भारतीय दार्शनिक तर्कशास्त्र के संस्थापकों में से थे। बौद्ध [[परमाणुवाद]] के मूल सिद्धान्तकारों में उनकी गणना की जाती है। वे [[नालन्दा]] में कार्यरत थे। सातवीं सदी के बौद्ध दार्शनिक धर्मकीर्ति को यूरोपीय विचारक [[इमैनुअल कान्ट]] कहा था क्योंकि वे कान्ट की ही तरह ही तार्किक थे और विज्ञानबोध को महत्व देते थे। धर्मकीर्ति बौद्ध विज्ञानबोध के सबसे बड़े दार्शनिक [[दिङ्नाग]] के शिष्य थे।
 
धर्मकीर्ति, [[प्रमाण]] के महापण्डित थे। [[प्रमाणवार्तिक]] उसका सबसे बड़ा एवं सबसे महत्वपूर्ण ग्रन्थ है जिसका प्रभाव भारत और तिब्बत के दार्शनिक चिन्तन पर पड़ा। इस पर अनेक भारतीय एवं तिब्बती विद्वानों ने टीका की है। वे [[योगाचार]] तथा [[सौत्रान्तिक]] सम्प्रदाय से भी सम्बन्धित थे। [[मीमांसा]], [[न्याय दर्शन|न्याय]], शैव और जैन सम्प्रदायों पर उनकी रचनाओं का प्रभाव पड़ा।
 
==कृतियाँ==