"ब्रज" के अवतरणों में अंतर

1,037 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{| class="infobox" cellpadding="2" cellspacing="2" style="width:250px; font-size:95%;"
|-
| colspan="2" style="margin-left:inherit; background:pink; text-align:center; font-size:medium;"|भारत का ऐतिहासिक धार्मिक स्थान<br>'''Braj'''<br/>'''ब्रज'''
|- style="text-align:center;"
| colspan="2" | <div style="position:relative; margin:0; border-collapse:collapse; border=;"1" cellpadding="0">
</div>
|- style="vertical-align: top;"
| '''Location'''
| [[उत्तर प्रदेश]]
|- style="vertical-align: top;"
| [[भाषाएँ]]
| [[ब्रजभाषा]], [[हिंदी]]
|- style="vertical-align: top;"
| '''[[नागरिकता]]'''
| ब्रजवासी
|- style="vertical-align: top;"
| '''ऐतिहासिक केन्द्र'''
| [[मथुरा]]
|- style="vertical-align: top;"
| '''Split divisions'''
| [[आगरा मंडल]]
|- style="vertical-align: top;"
<!--| colspan=2 | <small>{{{footnotes}}}</small> -->
|}
[[चित्र:*Bindrabun -Vrindavan-. Gate of Shet Lukhmeechund's Temple; a photo by Eugene Clutterbuck Impey, 1860's.jpg|right|thumb|300px|शेठ लक्ष्मीचन्द मन्दिर का द्वार (१८६० के दशक का फोटो)]]
'''ब्रज''' शब्द [[संस्कृत]] धातु 'ब्रज' से बना है, जिसका अर्थ गतिशीलता से है। जहां [[गाय]] चरती हैं और विचरण करती हैं वह स्थान भी ब्रज कहा गया है। [[अमरकोश]] के लेखक ने ब्रज के तीन अर्थ प्रस्तुत किये हैं- गोष्ठ (गायों का बाड़ा) मार्ग और वृंद (झुण्ड) १ संस्कृत के वृज शब्द से ही हिन्दी का ब्रज शब्द बना है।
25

सम्पादन