"आषाढ़ का एक दिन" के अवतरणों में अंतर

122 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
आषाढ़ का एक दिन.jpg
(आषाढ़ का एक दिन.jpg)
[[चित्र:आषाढ़ का एक दिन.jpg|thumb|right|200px|आषाढ़ का एक दिन]]
[[चित्र:Mohan Rakesh, (1925-1972).jpg|thumb|150px|नाटककार [[मोहन राकेश]] ने ''आषाढ़ का एक दिन'' १९५८ में प्रकाशित किया]]
'''आषाढ़ का एक दिन''' सन १९५८ में प्रकाशित और नाटककार [[मोहन राकेश]] द्वारा रचित एक हिंदी नाटक है।<ref name="datta2006jkf">{{Citation | title=The Encyclopaedia Of Indian Literature, Volume 1| author=Amaresh Datta | publisher=Sahitya Akademi, 2006 | isbn=9788126018031 | url=http://books.google.co.in/books?id=ObFCT5_taSgC | quote=''... Ashadh ka ek din (Hindi), a well-known Hindi play by Mohan Rakesh. was first published in 1958. The title of the play comes from the opening lines of the Sanskrit poet Kalidasa's long narrative poem ...''}}</ref> इसे कभी-कभी हिंदी नाटक के आधुनिक युग का प्रथम नाटक कहा जाता है।<ref name=com>{{cite book |title=The Columbia encyclopedia of modern drama, Volume 2 |author=Gabrielle H. Cody |authorlink= |coauthors= Evert Sprinchorn |publisher=[[Columbia University Press]]|year=2007|isbn=0231144245 |page=1116 |url=http://books.google.com/books?id=aQqOKWmjdQUC&pg=PA1117&dq=%22Shyamanand+Jalan%22&hl=en&ei=PtN0TfiZL8XjrAejtYDSCg&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=8&ved=0CEkQ6AEwBw#v=onepage&q=%22Shyamanand%20Jalan%22&f=false |ref= }}</ref> १९५९ में इसे वर्ष का सर्वश्रेष्ठ नाटक होने के लिए [[संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार]] से सम्मानित किया गया और कईं प्रसिद्ध निर्देशक इसे मंच पर ला चुकें हैं।<ref name="datta2006jkf"/> १९७१ में निर्देशक [[मणि कौल]] ने इस पर आधारित एक [[फ़िल्म]] बनाई जिसने आगे जाकर साल की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म का [[फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार]] जीत लिया।<ref name="wkaeman1988jkf">{{Citation | title=World Film Directors: 1945-1985| author=John Wakeman | publisher=H.W. Wilson, 1988 | isbn= | url=http://books.google.co.in/books?id=8aEYAAAAIAAJ | quote=''... His second film, Ashad ka ek din (A Monsoon Day, 1971), was based on a play by Mohan Rakesh, a well-known contemporary Hindi ...''}}</ref><ref>{{imdb title|0066787}}</ref> आषाढ़ का एक दिन महाकवि [[कालिदास]] के निजी जीवन पर केन्द्रित है, जो १०० ई॰पू॰ से ५०० ईसवी के अनुमानित काल में व्यतीत हुआ।