"डिवाइस ड्राइवर": अवतरणों में अंतर

7,296 बाइट्स हटाए गए ,  5 वर्ष पहले
फिर से लिखा
(फिर से लिखा)
'''डिवाइस ड्राइवर''' एक तरह का [[सॉफ्टवेयर]] होता है, जो कम्प्यूटर से जुड़े किसी [[हार्डवेयर]] को चलाने में सहायता करता है। इसे आम तौर पर [[उपकरण]] का चालक या उपकरण को चलाने वाला भी कहा जा सकता है। यह हार्डवेयर डिवाइस के लिए सॉफ्टवेयर इंटरफेस प्रदान करता है, और [[ऑपरेटिंग सिस्टम]] को बिना हार्डवेयर की जानकारी के ही उसके कार्यों तक पहुँचने और उसे नियंत्रित करने देता है।
{{wikify}}
 
जब कम्प्यूटर में कोई नया उपकरण (हार्डवेयर) जोड़ा जाता है, जैसे [[प्रिंटर]], [[स्कैनर]], आदि तो उसी के उनका ड्राइवर भी होता है। कुछ [[कम्प्यूटर]] में ड्राइवर पहले से स्थापित रहता है तो कुछ में बाद में हमें स्थापित करना पड़ता है। यदि डिवाइस को चलाने के लिए कम्प्यूटर में कोई ड्राइवर न हो तो वह कार्य नहीं कर पाता है और हमें उसके लिए ड्राइवर ढूंढ कर स्थापित करना पड़ता है।
डिवाइस ड्राइवर वह सॉफ्टवेयर होता है, जो कंप्यूटर से अटैच विभिन्न हार्डवेयर्स को कंट्रोल करता है। इसे आमतौर पर सॉफ्टवेयर ड्राइवर भी कहा जाता है। यह ऐसा सॉफ्टवेयर
है, जो हायर-लेवल कंप्यूटर प्रोग्राम्स को हार्डवेयर डिवाइसेज से इंटरेक्ट करने की सुविधा देता है। प्रिंटर, साउंड कार्ड, स्कैनर आदि सभी के लिए अपना ड्राइवर
होता है, जो इन डिवाइसेज को सही से काम करने के लिए जरूरी है। आपने देखा होगा कि सही ड्राइवर नहीं मिल पाने की वजह से हार्डवेयर ठीक प्रकार से अपना फंक्शन नहीं
कर पाता। आमतौर पर जब भी हम कंप्यूटर में कोई नया हार्डवेयर अटैच करते हैं तो हमें ड्राइवर सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करना पड़ता है। उस हार्डवेयर के कंपेटिबल ड्राइवर
को इंस्टॉल करने से आमतौर पर हार्डवेयर से संबंधित प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
 
==उपयोग==
ड्राइवर सॉफ्टवेयर डिवाइस से कम्युनिकेट करने के लिए अमूमन कंप्यूटर बस या कम्युनिकेशन सब-सिस्टम का उपयोग करता है। जब भी कोई कॉलिंग प्रोग्राम ड्राइवर के रुटीन
को एक्सेस करता है तो ड्राइवर द्वारा संबंधित डिवाइस के लिए कमांड इश्यू किया जाता है। जब डिवाइस द्वारा ड्राइवर को वापस डाटा भेजा जाता है, तब जाकर ड्राइवर
ओरिजनल कॉलिंग प्रोग्राम के रुटीन को इनवोक करता है। ये ड्राइवर्स आमतौर पर हार्डवेयर डिपेंडडेंट होते हैं।
 
यदि हम आम भाषा में ड्राइवर की बात करें तो यह एक प्रकार से हार्डवेयर डिवाइस और एप्लीकेशंस/ ऑपरेटिंग सिस्टम के बीच ट्रांसलेटर की भूमिका निभाता है। आमतौर पर
जब भी कोई हार्डवेयर जैसे माउस, की-बोर्ड, प्रिंटर आदि खरीदा जाता है तो मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी द्वारा संबंधित ड्राइवर उस हार्डवेयर के साथ उपलब्ध करवाया जाता
है। जैसे ही आप अपने कंप्यूटर में कोई हार्डवेयर डिवाइस/ पेरिफेरल को प्लग-इन करते हैं, हमें ड्राइवर सॉफ्टवेयर की जरूरत पड़ती है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम को बतलाता
है कि उस डिवाइस से किस प्रकार कम्युनिकेट करना है। संबंधित हार्डवेयर के ड्राइवर की सहायता से आप उसके सभी फीचर्स का उपयोग कर सकते हैं। 
 
==सन्दर्भ==
किसी भी अन्य फाइल की तरह ही ड्राइवर सॉफ्टवेयर को भी डाउनलोड किया जा सकता है। अधिकतर ड्राइवर एग्जिक्यूटेबल फाइल के रूप में होता है, जिसे क्लिक करते ही इंस्टॉलेशन
{{टिप्पणीसूची}}
शुरू हो जाता है। पहले यह सुनिश्चित कर लिया जाता है कि इंस्टॉल किया जा रहा ड्राइवर हार्डवेयर के उपयुक्त है भी या नहीं। आमतौर पर जब भी कोई नया ड्राइवर इंस्टॉल
करें तो याद रखें कि इसके बाद कंप्यूटर को री-बूट जरूर करें।
 
हार्डवेयर मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी की वेबसाइट पर उस कंपनी द्वारा बनाए गए हार्डवेयर से संबंधित डिवाइस ड्राइवर मिल सकता है। डिवाइस ड्राइवर अपडेट के लिए माइक्रोसॉफ्ट
विंडोज अपडेट फीचर का भी उपयोग आप कर सकते हैं। आप डिवाइस मैनेजर की सहायता से भी अपने कंप्यूटर के हार्डवेयर से संबंधित ड्राइवर को अपडेट कर सकते हैं। डिवाइस
मैनेजर द्वारा आप कंप्यूटर से अटैच सभी हार्डवेयरों की भी इंफॉर्मेशन ले सकते हैं। डिवाइस मैनेजर को एक्सेस करने के लिए ‘माई कंप्यूटर’ के आइकॉन पर
राइट क्लिक कर मैनेज ऑप्शन पर क्लिक करें। वहां आपको डिवाइस मैनेजर का ऑप्शन नजर आएगा। डिवाइस मैनेजर पर क्लिक करते ही राइट हैंड विंडो में आपको कंप्यूटर में
इंस्टॉल सभी हार्डवेयर्स की डिटेल देखने को मिलेगी। यहां से आप संबंधित हार्डवेयर को क्लिक कर उसका ड्राइवर अपडेट कर सकते हैं।
 
== computer drivers की ज़रूरत कब पड़ती है ==
अगर कभी आप के कंप्यूटर का operating system crash हो जाता है तो आप उसमे new operating system install करते हैं ! अगर new operating system इंसटाल करने के बाद आप sound driver install नहीं करेंगे तो आप के कंप्यूटर से किसी तरह की आवाज़ बहार नहीं आएगी ! कभी कभी कंप्यूटर में इंसटाल सॉफ्टवेयर का ड्राइवर अपने आप क्रैश हो जाता है तब वो सॉफ्टवेयर नहीं चलता है ! क्रैश हुवे सॉफ्टवेयर को दुबारा चलाने के लिए आप को उसका ड्राइवर इनस्टॉल करना पड़ता है ! कुछ साल पहले तक कंप्यूटर बनाने वाली कंपनियां अपने new computer के साथ उसमे इंस्टाल सारे computer drivers को एक cd के रूप में users को देती थी जिनका इस्तेमाल users बाद में करते सकते थे ! लेकिन आजकल कंपनियां ड्राइवर अपने कंप्यूटर के साथ नहीं देती हैं ! 
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
 
[[Computer drivers क्या होता है और इन्हें कहाँ से डाउनलोड करें ?|http://www.computerkijankari.com/free-me-computer-drivers-download-karen/]]