मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

आकार में कोई परिवर्तन नहीं, 2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[गंगा नदी]] में होने वाला प्रदूषण पिछले कई सालों से भारतीय सरकार और जनता के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इस नदी उत्तर [[भारत]] की सभ्यता और संस्कृति की सबसे मजबूत आधार है। उत्तर भारत के लगभग सभी प्रमुख शहर और उद्योग करोड़ों लोगों की श्रद्धा की आधार गंगा और उसकी सहायक नदियों के किनारे हैं और यही उसके लिए सबसे बड़ा अभिशाप साबित हो रहे हैं।
 
== प्रदूषण का कारण ==
[[ऋषिकेश]] से लेकर [[कोलकाता]] तक गंगा के किनारे [[परमाणु बिजलीघर]] से लेकर [[रासायनिक खाद]] तक के कारख़ाने लगे हैं। [[कानपुर]] का जाजमऊ इलाक़ा अपने [[चमड़ा उद्योग]] के लिए मशहूर है। यहाँ तक आते-आते गंगा का पानी इतना गंदा हो जाता है कि उसमें डुबकी लगाना तो दूर, वहाँ खड़े होकर साँस तक नहीं ली जा सकती। गंगा की इसी दशा को देख कर मशहूर वकील और मैगसेसे पुरस्कार विजेता एमसी मेहता ने १९८५ में गंगा के किनारे लगे कारख़ानों और शहरों से निकलने वाली गंदगी को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी। फिर सरकार ने गंगा सफ़ाई का बीड़ा उठाया और [[गंगा एक्शन प्लान]] की शुरुआत हुई।
बेनामी उपयोगकर्ता